विज्ञापन क्या है? – विज्ञापन (Advertising) के प्रकार इन हिंदी।

इस आर्टिकल का हेडलाइन है विज्ञापन क्या है. विज्ञापन के प्रकार इन हिंदी. इन्ही विषय पर विस्तार से चर्चा करेंगे की विज्ञापन का अर्थ क्या होता है. (what is advertising in hindi) और इतना अधिक पैसे विज्ञापन के लिए क्यो खर्च किया जाता है इसका क्या मतलब है।

विज्ञापन दिखाने के बहुत सारे साधन है जिनके माध्यम से विज्ञापन को पब्लिश किया जाता है अगर आपने ध्यान दिया हो तो टीवी चैनलो, ऑनलाइन विडिओ स्टीमिंग प्लेटफार्म, विज्ञापन बोर्ड, पैम्फलेट, अनाउंसमेंट, विजिटिंग कार्ड, आदि तरीको से लोग अपने वस्तुओ की जानकारी पब्लिक तक पहुंचाते है इसका लाभ और हानि क्या है हम आगे बात करेंगे।

अक्सर विज्ञापन को उस जगह से किया जहा अधिक पब्लिक होती है जैसे रोड पर पोस्टर लगाना मूवी थ्रेटर में ऐड प्ले करना या आपको टीवी चेंनेल सीरियल देखते वक़्त काफी सारे Ads देखने को मिल जाते होंगे टीवी पर एक विज्ञापन चलने का समय 30 से 60 सेकंड तक हो सकता है उसमे उस वस्तु Product की पूर्णतया उल्लेख की जाती है।

अधिकांश व्यक्तिओ के दिमांग में यह बात ज़रूर आती होगी की यह विज्ञापन क्यों चलाया जाता है इसके कई कारण है जिनके बारे आगे जानेगे लेकिन विज्ञापन बहुत ही चतुराई से लिखी और कैची छवि को यूज़ करके बनाई जाती है ताकि ज्यादा से ज्यादा व्यक्ति इस प्रोडक्ट से आकर्षित हो।

विज्ञापन क्या है – What is advertising in hindi?

vigyapan kya hai?

विज्ञापन (Advertising) का ही हिंदी मलतब होता है Ads का नाम सुनते ही कई तरह के दिमांग में छवि बनने लगती है क्योकि हर रोज सैकड़ो Ads कही न कही दिखाई पड़ ही जाते है उन विज्ञापनो का पिक्चर के रूप हमारे दिमांग से सेव हो जाती है इसलिए हर विज्ञापन का नाम लेते ही कई विज्ञापन याद आ जाते है।

विज्ञापन एक ऐसा जरिया है जिसके माध्यम से वस्तुओ सेवाओ या विचारो के क्वालिटी के बारे आम जनता को बताना या जनता को अपने वस्तु की ओर आकर्षित करना जिससे उपभोक्ता आकर्षित होकर वस्तुओ और सेवाओं का अपने इस्तेमाल में प्रयोग करे इसी को विज्ञापन कहा जाता है।

आज विज्ञापन को घर घर तक हर इंसान तक आसानी से पहुंचाया जाता है इसमें सबसे बड़ा योगदान सोशल मीडिया का है जिसे अधिकांश लोग यूज़ करते है।

सुबह उठते ही जैसे न्यूज़ पेपर पत्रिकाएं या टीवी ओपन करते है उसमे कई प्रकार के विज्ञापन छपे होते है जिसे देखना ही पड़ता है ऐसे में हर व्यक्ति को बहुत सारे Ads देखने को मिलते है क्योकि आज के समय में सड़क से घर तक मोबाइल से टीवी तक किताबो से लेकर पत्रिकाओं तक विज्ञापन ही छपे होते है।

यह भी पढ़े,

विज्ञापन का अर्थ।

विज्ञापन को अंग्रेजी में Advertisement के नाम से जाना जाता है यह Advertising शब्द लैटिन भाषा Advertere का शब्द है जिसका अर्थ है मस्तिष्क को प्रभाभित करना इस शब्द से Advertising नाम रख्खा गया उसका हिंदी अर्थ विज्ञापन है।

विज्ञापन का मतलब है किसी विशेष वस्तु या सेवा के बारे लोगो को सूचित करना सुचना देना या उस जानकारी से आम लोगो को जागरूक करना होता है।

विज्ञापन के प्रकार इन हिंदी।

अब आएये जानते है की types of advertising in hindi, कितने होते है विज्ञापन कई प्रकार से प्रसारण किया जाता है ताकि अधिक लोगो तक वस्तु की जानकारी कम समय में पहुंचाया जा सके।

क्योकि हर विज्ञापन प्रशारण करने वाली कम्पनिया अलग अलग प्लेटफार्म का इतस्तेमाल करती है इसी लिए कई व्यक्ति कंफ्यूज रहते है की आखिरकार कितने तरह से विज्ञापन किया जाता है निचे पेश किये गए विज्ञापन के मुख्य माध्यम जिसे आप पढ़कर समझ सकते है।

  1. समाचार पत्र (New Paper) : विज्ञापन प्रसारण के बहुत सारे माध्यम है लेकिन समाचार पत्र विज्ञापन के लिए बहुत पुराना और सर्वश्रेष्ठ माध्यम है जो कई सालो से प्रचलन में है न्यूज़ पेपर के माध्यम से वस्तुओ और सेवाओं का प्रचार बहुत ही आसानी से किया जा सकता है यह अधिकांश बिज़नेस के लिए उपयुक्त है।
  2. रेडियो (Radio) : रेडियो काफी पुराना प्लेटफार्म है विज्ञापन करने के लिए लेकिन आज भी रेडियो के जरिये काफी विज्ञापन करवाए जाते है आज भी रेडियो के सुनने वालो की बड़ी मात्रा है यही कारण है जिससे रेडियो के जरिये काफी विज्ञापन करवाए जाते है। आर जे (Radio Jockey) कैसे बने? यह पढ़े।
  3. पत्रिकाएं (Magazine) : मैगज़ीन भी विज्ञापन के लिए काफी पॉपुलर है यह निश्चित टाइम पर प्रकाशित की जाती है जैसे वीकली, मंथली, 3 मंथली, 6 मंथली, और इयरली, की जाती है इसलिए ओरिएंटेड नीच यानि टार्गेटेड ऑडियंस होती है मैगज़ीन पढ़ने के लिए इस लिए इसे अच्छा विज्ञापन माध्यम माना जाता है।
  4. टेलीविज़न (Television) : टीवी पर प्ले होने वाले सीरियल, रियल्टी शो, मूवी, न्यूज़ चैनल, के बीच बीच काफी Ads देखने को मिलते है यह महंगे ज़रूर होते है लेकिन असरदार विज्ञापन होता है इसे टीवी चैनल तरह तरह से प्रस्तुत किया जाता है नाटकीय ढंग से वस्तु की विशेषताओ को बताया जाता है।
  5. सिनेमा (Cinema) : सिनेमा घरो में अक्सर मूवी प्ले होने से पहले या मध्य में और अन्त में ज़रूर कई प्रकार के विज्ञापन दिखाए जाते है यह थोड़ा महंगा ज़रूर पड़ेगा लेकिन काफी अच्छा असर पब्लिक पर डालता है जिससे उत्पादन को उपभोक्ता इस्तेमाल करता है।
  6. सीधे मार्केटिंग (Direct Marketing) : यह विज्ञापन माध्यम स्थानीय विज्ञापन प्रशारण के लिए उपयोगी साबित हो सकता है डायरेक्ट ईमेल मार्केटिंग फ़ोन कॉल या व्हाट्सप्प मेस्सेंजिंग अप्प के जरिये डायरेक्ट वार्तालाप किया जा सकता है ये काफी लाभकारी विज्ञापन हो सकता है।
  7. इंटरनेट (Internet) : आज के युग में इंटरनेट पर भर भरके एडवरटाइजिंग चलाई जाती है इंटरनेट से कई प्रकार के फिलटर का इस्तेमाल करके Ads चला सकते है यहाँ से ऑनलाइन कम्पनीज के अलावा ऑफलाइन कम्पनीज भी विज्ञापन करती है इंटरनेट से बैनर ऐड पॉपअप ऐड टेक्स्ट ऐड चलाकर प्रचार किया जा सकता है।
  8. सोशल मीडिया (Social Media) : सोशल मीडिया का इस्तेमाल आज के इस समय में अधिकांश व्यक्ति यूज़ है इस लिए सोशल मीडिया पर विज्ञापन करना काफी उपयुक्त हो सकता है यहाँ से अपने वस्तु और सेवा के हिसाब से जनता को आकर्षित किया जा सकता है यही कारण से Influencer के जरिये से काफी ads रन किये जाते है ये चाहे इंस्टाग्राम, फेसबुक, ट्विटर, टेलीग्राम, व्हाट्सप्प, के जरिये क्यों न किया जाये इसकी रीच काफी अधिक होती है।
  9. पोस्टर (Poster) : पोस्टर के द्वारा विज्ञापन करना भी काफी आसान है क्योकि इन प्रकार के विज्ञापन को प्रिंटिंग मशीन से प्रिंट करवाकर गलियों मोहल्लो में सडको चौराहो आदि पर लगाए जाते है जिन्हे आते जाते और ठहरते लोग देख और पढ़ सकते है ये कही सही तरीका विज्ञापन।
  10. लाउडस्पीकर (Loudspeaker) : यह विज्ञापन माध्यम थोड़ा पुराना ज़रूर है लेकिन काफी उपयोगी विज्ञापन माध्यम माना जाता है लाउडस्पीकर विज्ञापन छोटे व्यवसाय या लोकल बिज़नेस के लिए उपयोगी साबित हो सकता है इसके जरिये व्यवसाय के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी रिकॉर्ड करके गलियों मोहल्लो और छोटे शहरो में लाउडस्पीकर के द्वारा प्रशारण किया जा जाता है।

विज्ञापन के कार्य।

विज्ञापन के कार्य क्या है, विज्ञापन चलाना क्यों ज़रूरी है इसके मुख्य कार्य क्या है आइये इस सवाल पर नजर डालते है।

विज्ञापन ही एक ऐसा माध्यम जो मार्किट में बने नए वस्तु नये सेवा या उत्पादन का आम लोगो से परिचय करवाता है जिससे उस प्रोडक्ट या सर्विस के बारे में लोग जानते है और उसका इस्तेमाल करते है।

विज्ञापन जनता को उस वस्तु को खरीदने के लिए प्रेरित करती है अपनी तरफ आकर्षित करती है ताकि अधिक वस्तुओ सेवाओं को मार्किट में बेचा जा सके।

अनजान ग्राहकों को अपने वस्तु से रूहबरु करवाना विज्ञापन का कार्य होता है ताकि उस वस्तु के बारे एक दुसरे के बीच चर्चा हो और ग्राहक प्रभावित होकर उपयोग करे।

वस्तुओ सेवाओ और विचारो को बनाने वालो के व्यवसाय को बढ़ाना ज्यादा से ज्यादा बिक्री करवाना विज्ञापन का कार्य है।

व्यवसाय को बड़ा बनाने में विज्ञापन का अहम् रोल होता है एडवरटाइजिंग के कारण ही एक जगह पर बैठकर पूरी दुनिया में किसी वस्तु और सेवा का बिक्री किया जा सकता है यह विज्ञापन का ही देंन है।

विज्ञापन के लाभ।

विज्ञापन के लाभ की बात करे तो काफी फायदे दीखते है आइये इसके लाभ के बारे में जानते है।

प्रोडक्ट की सेल्लिंग बढ़ाना.

Ads रन करने से प्रोडक्ट या वस्तुओ की सेल्लिंग बढ़ जाती है क्योकि अधिकतर लोगो के बीच किसी वस्तु या सेवा की चर्चा करने पर एक दूसरे देखकर वस्तु के बारे में सुनकर खरीदारी करते है यही कारण से प्रोडक्ट सेल्लिंग बढ़ जाती है।

ब्रांड फेमस करने में हेल्प.

किसी ब्रांड के वस्तु या सेवा के प्रचार करने से Brand Build होता है इससे प्रोडक्ट पर लोगो के Trust बढ़ते है और ब्रांड देखकर सुनकर उपभोक्ता वस्तु का इस्तेमाल करता है।

नये वस्तु लॉन्च करने और बेचने में हेल्प.

किसी वस्तु या सेवा को मार्किट में सेल्ल करना इतना आसान नहीं है और वो भी नए वस्तु को लेकिन विज्ञापन आपको नये प्रोडक्ट लॉन्चिंग के समय सेल करने में हेल्प कर सकता है।

कस्टमर को आकर्षित करना.

ग्राहक को आकर्षित करने का सबसे सर्वश्रेठ विकल्प है विज्ञापन का एडवरटाइजिंग में इस्तेमाल किये जाने वाले शब्द और टेक्स्ट काफी कैची होते है जिससे आसानी से कस्टमर आकर्षित हो जाते है।

कस्टमर को संतुष्ट करना.

हर सेल्स मैन यह चाहते है की हमारे ग्राहक हमेशा मेरे वस्तुओ से संतुष्ट रहे है क्योकि कस्टमर को उत्पादक के द्वारा बहुत बड़ा दर्जा दिया जाता है तो इस विज्ञापन चलाकर मार्किट में ट्रस्ट पैदा किया जा सकता है जिससे कस्टमर संतुष्ट हो सकते है।

टार्गेटेड ऑडियंस तक पहुंचना,

अधिकांश विज्ञापन प्रशारण यह चाहते है की उन व्यक्तिओ तक अपने वस्तु और सेवाओं को पहुचाये जिनका इस वस्तु में चिलचस्पी है और वो उपयोग करते है तो इस केस में विज्ञापन आपको वहा तक बड़ी असानी से पंहुचा सकता है।

विज्ञापन की हानि।

विज्ञापन के जहा बहुत सारे लाभ दिखाई देते है वही कई प्रकार के विज्ञापन के नुकसान या हानि भी देखने को मिलते है।

अधिक पैसे खर्च करना.

विज्ञापन करने में काफी पैसो का खर्चा होता है क्योकि विज्ञापन फ्री में नहीं बल्कि पैसो से विज्ञापन करवाना पड़ता है इसलिए अधिक पैसे विज्ञापन के नाम पर खर्च करने होते है।

कई विज्ञापन कंफ्यूज कर देती है.

कुछ ऐसे विज्ञापन टीवी में या टेक्स्ट के रूप दिखाए जाते है जिनको देखकर काफी कंफ्यूजन पैदा हो जाता है और समझ ही नहीं आता है की किस प्रोडक्ट के बारे बात हो रहा ऐसे कन्फूसन हानि पंहुचा सकते है।

अधूरे जानकारी से विज्ञापन करना.

किसी भी प्रोडक्ट के बारे अधूरी जानकारी देना या विज्ञापन करना काफी हानि पंहुचा सकता है क्योकि यह कई बार विश्वाश्घात हो जाता है जो कंस्यूमर पर बुरा असर डालता है।

निष्कर्ष

मैं आशा करता हूँ यह जानकारी आपके काम आयी होगी इस आर्टिकल में विज्ञापन क्या है, विज्ञापन के प्रकार इन हिंदी, क्या है के बारे विस्तृत जानकारी का उल्लेख किया गया जो आपको ज़रूर पसंद आया होगा।

इस लेख में उल्लेख की गयी जानकारी से में कोई डाउट या सवाल उठ रहा हो तो वो आप कमेंट बॉक्स के जरिये मुझ तक भेज सकते है जिसका जवाब आपको अवश्य दिया जायेगा।

यह जानकारी आपके सवालो को हल की हो मदद मिला हो तो इसे अपने मित्रो तक शेयर न भूले ताकि ऐसी जानकारी उन तक भी पहुंच सके।

अगर इसी प्रकार की जानकारी पढ़ना चाहते है या ऐसे सवाल के जवाब चाहते है तो हमारे ब्लॉग को डेली बेसेस पर बढ़ सकते है जहा पर काफी यूनीक कंटेंट पब्लिश किया जो आपको काफी हेल्प कर सकता है।

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!