TRF क्या है? – टीआरएफ का मतलब क्या है?

हेलो दोस्तों !! इस आर्टिकल की मदद से हम बताएँगे कि TRF क्या है. टीआरएफ का मतलब क्या होता है. trf full form क्या है. इसके अलावा टीआरएफ शुल्क और इससे सम्बंधित जानकारी विस्तार से जानेगे इसके लिए आप सही लेख पर आ गए है इस लेख को शुरू से अंत तक पढ़े इसमें हम आपको बताएँगे टीआरएफ की पूर्ण जानकारी जो शायद आपको नहीं पता होगा।

आज के समय में अधिकांश लोगो का बैंक में खाता होता ही है क्योकि कई कामो के लिए बैंक अकाउंट की आवश्यकता पड़ती है जैसे पैसो की बचत करने के लिए, इनकम टैक्स रिटर्न करने में, ऑनलाइन शॉपिंग, पीएफ अकाउंट से पैसे प्राप्त करने के लिए, (पीएफ बैलेंस चेक) के लिए पढ़े. सैलरी प्राप्त करने के लिए, एक स्थान से दूसरे स्थान पर पैसे भेजने और मंगवाने के लिए, बैंक खातों की आवश्यकता होती है।

बैंक हमारे खाते से कई प्रकार का चार्ज भी काटता है जो कई लोगो को पता नहीं होता है जैसे एटीएम कार्ड का ट्रांसक्शन चार्ज, बैंक अकाउंट ओपन करने का चार्ज, बैंक स्टेटमेंट का चार्ज, फण्ड ट्रांसफर का चार्ज, इंटरनेट बैंकिंग का चार्ज, आरटीजीएस चार्ज, एनईएफटी का चार्ज, मोबाइल बैंकिंग, आदि का चार्ज बैंक द्वारा काटा जाता है लेकिन TRF Kya Hai. आइये जानते है।

TRF क्या है- What is TRF in Hindi?

trf-kya-hai

जब एक बैंक खाते से दूसरे बैंक खाते में फण्ड ट्रांसफर किया जाता है तो उसे टीआरएफ (TRF) के नाम से दर्शाया जाता है टीआरएफ को आप इस प्रकार से समझे TRF बैंक विवरण (Bank Statement) में ट्रांसफर का शार्ट फॉर्म TRF होता है टीआरएफ सफलतापूर्वक फण्ड ट्रांसफर का विवरण में एक कोड होता है।

इससे हमे यह जानकारी हो जाती है की फण्ड ट्रांसफर हो चूका है की नहीं टीआरएफ प्रत्येक लेनदेन से जुड़ा होता है यह एक संकेत देता है की आपके खाते से राशि कटकर दूसरे खाते में टीआरएफ हो चूका है या दूसरे के खाते से आपके खाते में TRF हो चूका है।

टीआरऍफ़ हमे Bank Statement, Passbook, E-Passbook, में देखने को मिल जाता है कई प्रकार के ट्रांसक्शन को टीआरएफ से दर्शाया जाता है इसे आप स्टेटमेंट में चेक कर सकते है उसमे देखने को मिल जायेगा।

TRF full form.

अधिकतर व्यक्तियों को TRF ka Full From क्या होता है नहीं पता होता है मैं आपको सरल शब्दों में बताता हूँ (trf full form Transfer) होता है trf के तीनो अक्षर Transfer में शब्द में आ गए है TRF बैंकिंग क्षेत्र में Transfer का short form है।

टीआरएफ बैंक स्टेटमेंट या बैंक पासबुक में इस लिए लिखकर दर्शाया जाता है की कम जगह (Space) में एक ट्रांसक्शन के स्टेटस को पूरा किया जा सके यदि ऐसा बैंक करता है तो पासबुक में और स्टेटमेंट में काफी जगह बेकार Waste होने से बच जाता है इस कारण से trf लिखकर बैंक किसी Fund की Successfully Transfer के status को दर्शाता है।

टीआरएफ का मतलब क्या है?

TRF ka full form क्या होता है टीआरएफ को कई अलग अलग फुल फॉर्म से जाना जाता है लेकिन बैंकिंग टीआरएफ को (Transfer Fund) के नाम से जाना जाता है।

यह बैंक अकाउंट से ट्रांसफर फण्ड को दूसरे अकाउंट में राशि हस्तांतरित करने पर टीआरएफ से बैंक विवरण में दिखाया जाता है टीआरएफ का सही मतलब यही है की ग्राहक को trf से Fund transfer के बारे में बताना।

इसे भी पढ़े…..

टीआरएफ शुल्क क्या है?

अब प्रश्न आता है की टीआरएफ का शुल्क कितना होता है तो मैं आपको बता दू TRF का कोई शुल्क नहीं होता है लेकिन बैंक द्वारा दी जाने वाली सर्विस का शुल्क ज़रूर होता है वह बैंक अपने हिसाब से आपके बैंक खाते से कट कर लेता है आइये जानते है बैंक कौन कौन सी सर्विस का चार्ज लेता है।

बैंक में अकाउंट खोलते समय अकाउंट में धन राशि मेन्टेन करने की बात बताई जाती है यह हर बैंक का अलग अलग धन राशि हो सकता है चाहे वो सरकारी बैंक हो या प्राइवेट बैंक हो उतना पैसा आपको हमेशा खाता में रखना होगा नहीं तो बैंक उसका चार्ज काटेगा।

फिर आता है एटीएम कार्ड इसका एनुअल चार्ज बैंक तो लेता ही है लेकिन ट्रांसक्शन चार्ज भी बैंक काटता है यदि किसी दूसरे बैंक के एटीएम से पैसे निकालते हो तो बैंक अधिक चार्ज लेता है उसी बैंक के एटीएम से पैसे निकालने पर कम चार्ज लगता है।

बैंक स्टेटमेंट बैंक अपने ग्राहकों को फ्री में नहीं देता है बल्कि बैंक स्टेटमेंट की Hard Copy निकालने के लिए बैंक ग्राहक से चार्ज लेता है यह चार्ज प्रति कॉपी के हिसाब से या कितने समय का स्टेटमेंट ले रहे है उस हिसाब से चार्ज करता है।

चेक बुक जिस कागज के टुकड़े से हम बैंक से पैसे निकालते है उसका भी बैंक चार्ज लेता है वह उस चेक बुक के कॉपी के ऊपर डिपेंड करता है।

बैंक लोन जब बैंक से किसी प्रकार का लोन लिया जाता है चाहे वो कार लोन, बाइक लोन, एजुकेशन लोन, होम लोन, पर्सनल लोन, बिज़नेस लोन, क्रेडिट कार्ड लोन, पर बैंक चार्ज करता है सभी का इंटरेस्ट अलग अलग हो सकता है।

बैंक के द्वारा भेजा जाने वाला SMS भी मुफ्त नहीं होता है उसको भी काउंट किया जाता है और खाते से कुछ चार्ज काटा जाता है।

इंटरनेट बैंकिंग या मोबाइल बैंकिंग हो इसका भी बैंक चार्ज लेता है जो कई लोगो को पता ही नहीं होता है।

एक खाते से दूसरे खाते में पैसे ट्रांसफर करने के भी चार्ज लिए जाते है चाहे वो NEFT, RTGS, IMPS, UPI, हो सभी से चार्ज बैंक के द्वारा काटता जाता है यही कुछ ट्रांसक्शन से अधिक चार्ज लिया जाता है और कुछ पर कम चार्ज लिया जाता है।

बैंक बचत खाताधारक को कुछ प्रतिशत व्याज देता है लेकिन वह व्याज दिन प्रतिदिन घटता जा रहा है कुछ समय पहले बैंक 8% ग्राहकों को सेविंग एकाउंट में जमा राशि पर व्याज देता था लेकिन कुछ समय बाद 6% प्रतिशत हुआ फिर 4% हुआ फिर धीरे धीरे घटता जा रहा है कई बैंक इससे भी कम दे रहे है और बैंक सभी सेवा का चार्ज भी ले रहा है।

बैंक कई चार्जेज को TRF से जोड़ देता है जो आपको अपने बैंक पासबुक, ई-पासबुक, बैंक स्टेटमेंट, में दिख जायेगा इसे ध्यान से देखे यदि बैंक अधिक चार्ज काटता है तो इसकी शिकायत भी कर सकते है।

TRF क्या है?

आपको यह जानकरी मिल गया होगा मुझे आशा है की आपको यह आर्टिकल पढ़कर पसंद आया होगा लाभकारी लगा होगा और आपके द्वारा खोजे जा रहे प्रश्न का उत्तर मिल गया होगा इसी प्रकार के प्रश्न का हल इस ब्लॉग पर डेली बेसेस पर पब्लिश की जाती है जो काफी यूज़फुल होता है।

यदि इस ब्लॉग पोस्ट से सम्बंधित कोई प्रश्न है या इसके अतिरिक्त कोई प्रश्न है तो उसे पूछकर उत्तर जान सकते है इसके लिए आपको कमेंट बॉक्स का सहारा लेना है उसके जरिये से आप प्रश्न का उत्तर जान सकते है अधिक जानकारी के लिए आप हमारे कांटेक्ट पेज से संपर्क भी कर सकते है।

अब आपको (trf full form) के बारे में पता चल गया होगा इससे जुडी जानकारी आपको मिल गयी होगी अच्छा लगा हो तो इसे सोशल मीडिया के माध्यम से अपने मित्रो तक भेजना न भूले ताकि इस यूज़फुल इनफार्मेशन से हर कोई रूबरू हो सके और जानकारी प्राप्त कर सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!