सरकारी बैंक नाम लिस्ट – सरकारी बैंक कौन कौन से है?

क्या आपका भी कई अलग अलग बैंको में खाता है और आपको ये नहीं पता कि हमारा खाता sarkari bank में है या नहीं तो आज हम आपको यही बताएँगे कि सरकारी बैंक कौन कौन से है और ये भी आप देखे की आपका बैंक इन सरकारी बैंक नाम लिस्ट में है की नहीं तथा सरकारी बैंको में खाता खोलने के फायदे क्या होते है तथा सरकारी बैंको से जुडी पूरी जानकारी इस आर्टिकल में आपको मिल जायेगा।

कई सरकारी बैंको का विलय एक दूसरे बैंक में हुआ है जिससे सरकारी बैंको की संख्या कम हो गयी है अब बात आती है वो कौन से बैंक है जो सरकारी बैंक नाम लिस्ट 2020 में शामिल थे लेकिन सरकारी बैंक लिस्ट 2021 में शामिल नहीं है किन किन बैंको का विलय हुआ है इन्ही प्रश्नो का उत्तर इस लेख में जानेंगे।

अधिकांश लोगो को उस बैंक के बारे में सम्पूर्ण जानकारी न होने के बावजूद भी उसी बैंक में जारकर अपना खाता ओपन करवा लेते है ये भी नहीं जानते है की बैंक सरकारी है या प्राइवेट लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं करना चाहिये किसी बैंक में अकाउंट खोलने से पहले आपको कुछ चीजों का जानना बहुत ज़रूरी है इसके लिए इस लेख को शुरू से अंत तक पढ़े।

बहुत सारे बैंक एक दूसरे बैंक में मर्ज हो रहे है कुछ सरकारी बैंक आपस में मर्ज हो रहे है जिससे जो सरकारी बैंक नाम सूचि में बैंक शामिल थे वो धीरे धीरे कम हो रहे है और ये भी जानेगे की भविष्य में कितने Sarkari bank भारत में बचेंगे क्योकि सरकारी आने वाले समय में सरकारी बैंक कम करने वाली है आइये जानते है सरकारी बैंको के बारे में।

पोस्ट के विषय दिखाएं

सरकारी बैंक नाम लिस्ट – Sarkari bank list.

sarkari bank naam list
sarkari bank naam list

सरकार के द्वारा कई बैंको का विलय करने के बाद 12 सरकारी बैंक अभी बचे हुए जो सरकारी बैंक एक दूसरे बैंक में मर्ज किये गए है वो सरकारी बैंक में ही मर्ज हुए है लेकिन यह जानना ज़रूरी है सरकारी बैंक नाम लिस्ट 2021 में कितने बैंक शामिल है।

यह भी जानकरी होना ज़रूरी है की भारत में कुल कितने सरकारी बैंक थे 2020 में और वर्तमान में कितने सरकारी बैंक बचे हुए है इस विषय पर हम आपको विस्तृत जानकारी देंगे।

मर्ज होने के बाद सरकारी बैंक नाम लिस्ट 2021

आप निचे देख सकते है इस सूचि में एक दर्जन बैंक शामिल है जिसका सरकार के पास अभी भी हिस्सेदारी है इन बैंको में से कई बैंक मर्ज किये गए है उसके बाद बचे ये 12 बैंक है मर्ज होने के पहले करीब 20 सरकारी बैंक थे जोकि अभी बारह बैंक बचे है यानि 8 ऐसे बैंक है जो इन बैंको में मर्ज हो चुके है जिनकी चर्चा हम आगे करेंगे।

  1. स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया
  2. सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया
  3. बैंक ऑफ़ इंडिया
  4. पंजाब नेशनल बैंक
  5. बैंक ऑफ़ बड़ौदा
  6. बैंक ऑफ़ महाराष्ट्रा
  7. केनरा बैंक
  8. यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया
  9. इंडियन ओवरसीज
  10. यूको बैंक
  11. पंजाब एंड सिंद बैंक
  12. इंडियन बैंक

मर्ज हुए बैंक नाम लिस्ट 2021

ये वो बैंक है जो एक दूसरे बैंक में मर्ज हुए है जैसा की मैंने पहले बताया मर्ज होने से पहले करीब 20 sarkari bank थे लेकिन 2020 और 2021 में कई बैंको की हिस्सेदारी बिकी है जिसका विलय हुआ है विलय होने वाले 8 बैंक है यह एक दूसरे सरकारी बैंक से जुड़ गए है लेकिन विलय होने वाले बैंक के सभी ग्राहकों को उन बैंक से सुविधाएं दी जा रही है जिसमे इनका विलय हुआ है।

  1. देना बैंक
  2. विजया बैंक
  3. यूनाइटेड बैंक इन इंडिया
  4. ओरिएंटल बैंक ऑफ़ कॉमर्स
  5. सिंडिकेट बैंक
  6. आंध्रा बैंक
  7. कॉर्पोरेशन बैंक
  8. इलाहाबाद बैंक

इसे पढ़े.. बैंक से पैसे कैसे कमाए?

किस बैंक का किसमे मर्जर हुआ है?

देना बैंक :- किस बैंक में मर्ज किया गया है देना बैंक को बैंक ऑफ़ बड़ौदा बैंक से जोड़ा गया है अब देना बैंक को बैंक ऑफ़ बड़ौदा के नाम से जानते है जितने भी ग्राहक देना बैंक के पहले से थे वो अब सारे बैंक ऑफ़ बड़ौदा के ग्राहक हो गए है यह बैंक सारे देना बैंक के ग्राहकों सेवाएं दे रहा है।

विजया बैंक :- ये बैंक भी बैंक ऑफ़ बड़ौदा में मर्ज किया गया है जनवरी 2019 में विजया बैंक को बैंक ऑफ़ बड़ौदा से जोड़ा है 1 अप्रैल 2019 में पूरी तरह विजया बैंक के कार्यभार को बैंक ऑफ़ बड़ौदा के द्वारा सभाला जाने लगा।

यूनाइटेड बैंक :- इस बैंक को पंजाब नेशनल बैंक से मर्ज किया है इस बैंक के द्वारा कई प्रकार की सुविधाएं ग्राहकों दी जाती थी लेकिन पंजाब नेशननल में जुड़ जाने के बाद पंजाब नेशननल बैंक के द्वारा दी जाने वाली सुविधाएं ही ग्राहक को मिल पाती है।

ओरिएंटल बैंक ऑफ़ कॉमर्स :- अप्रैल 2020 में इस बैंक को पंजाब नेशनल बैंक में मर्ज किया गया जोकि अभी पंजाब नेशनल बैंक के द्वारा इसके सारे कार्यभार को सभाला जाता है इसकी पूरी हिस्सेदारी को पंजाब नेशनल बैंक के द्वारा ही रेगुलेट किया जाता है जोकि इसके सारे ग्राहकों को भी पंजाब नेशनल बैंक के द्वारा ही सभाला जाता है।

सिंडिकेट बैंक :- ये भी एक सरकारी बैंक हुआ करता था लेकिन अभी इसको पूरी तरह से केनरा बैंक से जोड़ दिया गया है जोकि केनरा बैंक अभी भी सरकारी बैंको की सूचि में शामिल है इसे अप्रैल 2020 में मर्ज किया था अब सिंडिकेट बैंक को केनरा बैंक के नाम से जाना जाता है।

आंध्रा बैंक :- इस बैंक का भी मर्जर किया गया था इस बैंक को यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया से जोड़ा गया है जोकि अब इस बैंक के सारे ग्राहकों को यूनियन बैंक के द्वारा सुविधाएं प्रदान की जा रही है आंध्रा बैंक को पूरी तरह से यूनियन बैंक से जोड़ा गया है।

कॉर्पोरेशन बैंक :- ये एक सरकारी बैंक था जोकी अभी एक दूसरे सरकारी बैंक में शामिल हो चूका है अब इस बैंक को पूरी तरह से यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया में कन्वर्ट कर दिया गया है इस बैंक की सारी हिस्सेदारी यूनियन बैंक के पास है इसके सारे ग्राहक भी यूनियन के पास है इसी बैंक के द्वारा ग्राहकों को सुविधाएं मिल रही है।

इलाहाबाद बैंक :- ये काफी पूराना बैंक था इसका मर्जर कर दिया गया 2020 में इलाहाबाद बैंक को इंडियन बैंक से जोड़ा गया है जो की इलाहाबद बैंक के सभी ग्राहकों को अब इंडियन बैंक के माध्यम से सेवाएं दी जा रही है अभी इलाहाबाद बैंक के नाम को बदलकर इंडियन बैंक के नाम से जाना जाने लगा है।

सभी सरकारी बैंको की सूचि।

इस टेबल में 20 बैंक शामिल है जो सरकारी बैंक नाम लिस्ट 2020 में शामिल थे लेकिन 2021 में सरकार के द्वारा इनमे से कुछ बैंको का एक दूसरे बैंक के साथ मर्ज किया गया है Sarkari bank naam list 2021 में कितने बैंक बचे है वह आप ऊपर देख सकते है।

सरकारी बैंक नाम लिस्ट 2020राष्ट्रीयकरण का वर्ष
1. इलाहाबाद बैंक1969
2. बैंक ऑफ़ बड़ौदा1969
3. बैंक ऑफ़ इंडिया1969
4. बैंक ऑफ़ महाराष्ट्रा1969
5. केनरा बैंक1969
6. सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया1969
7. देना बैंक1969
8. इंडियन बैंक1969
9. इंडिया ओवरसीज बैंक1969
10. पंजाब & सिंड बैंक1969
11. पंजाब नेशनल बैंक1969
12. सिंडिकेट बैंक1969
13. यूको बैंक1969
14. यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया1969
15. यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इंडिया1969
16. विजया बैंक1969
17. आंध्रा बैंक1980
18. कॉर्पोरेशन बैंक1980
19. ओरिएंटेल बैंक ऑफ़ कॉमर्स1980
20. स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया1955

इसे भी पढ़े.

इलाहाबाद बैंक का इतिहास

इलाहाबाद बैंक की स्थापना 24 अप्रैल 1865 में इलाहाबाद उत्तर में हुआ था अब इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया गया है और इलाहाबाद बैंक को 1 अप्रैल 2020 को इंडियन बैंक के साथ जोड़ दिया गया है इलाहाबाद बैंक के पुरे इंडिया में 3500 से ज्यादा शाखाये है तथा 25000 से ज्यादा कर्मचारी इस बैंक में काम कर रहे है।

इलाहाबाद का हेडक्वाटर:-No. 2, N. S. Road Kolkata -700 001

बैंक ऑफ़ बड़ौदा का इतिहास

बैंक ऑफ़ बड़ौदा की स्थापना 20 जुलाई 1908 में बरोड़द्रा गुजरात में हुआ था इसके संस्थापक सयाजीराव गायकवाड़ है इस बैंक के 9482 से ज्यादा शाखाये इंडिया में है तथा लगभग 84223 इस बैंक के कर्मचारी है।

बैंक ऑफ़ बड़ौदा का हेडक्वाटर:-Vadodara Gujarat India

बैंक ऑफ़ इंडिया का इतिहास

बैंक ऑफ़ इंडिया की स्थापना सन 1906 में मुंबई में हुआ था और इसके संस्थापक टी. एस. नारायणसामी है इस बैंक का राष्ट्रीयकरण 1969 में हुआ और भारत सरकार के द्वारा संचालित किया जाने लगा इस बैंक में 48807 से ज्यादा कर्मचारी काम करते है।

बैंक ऑफ़ इंडिया का हेडक्वाटर:-मुंबई

बैंक ऑफ़ महाराष्ट्रा का इतिहास

बैंक ऑफ़ महाराष्ट्रा की स्थापना 16 सितम्बर 1935 में श्री ए०एस० भट्टाचार्य के द्वारा किया गया था इस बैंक के पुरे इंडिया में 2000 से ज्यादा ब्रांच है ये एक सरकारी बैंक है जो भारत सरकार के द्वारा चलाया जाता है।

बैंक ऑफ़ महाराष्ट्रा का हेडक्वाटर:-Pune maharashtra

केनरा बैंक का इतिहास

केनरा बैंक का स्थापना 1 जुलाई 1906 में अम्मेम्बल सुवह राव पाव के द्वारा मंगलोर में किया गया था इस बैंक 1 लाख से ज्यादा कर्मचारी काम करते है ये एक पब्लिक सेक्टर का बैंक है इसके सीईओ लेंगट वेंकट प्रभाकर है।

केनरा बैंक का हेडक्वाटर:-Bengaluru

इसे भी पढ़ेpf check karna hai?

सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया का इतिहास

सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया का स्थापना 11 दिसम्बर 1911 में सौरभजी पोचखानावाला और फरोज़ेशान मेहता द्वारा किया गया था उसके बाद 1969 में इस बैंक राष्ट्रीयकरण हुआ और भारत सरकार द्वारा संचालित किया जाने लगा इस बैंक में 37162 सी ज्यादा कर्मचारी काम करते है।

सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया का हेडक्वाटर:-Mumbai, Maharashtra, India

देना बैंक का इतिहास

देना बैंक का स्थापना 26 मई 1938 में चूनीलाल देवकरन नानजी और प्राणलाल देवकरन नानजी के द्वारा किया गया था इस बैंक के इंडिया में 1874 से ज्यादा शाखाये है करीब 13613 से ज्यादा इस बैंक में कर्मचारी काम करते है।

देना बैंक का हेडक्वाटर:-Bandra-Kurla Mumbai Maharashtra India

इंडियन बैंक का इतिहास

इंडियन बैंक की स्थापना 15 अगस्त 1907 में S. Rm. M. Ramaswami के द्वारा किया गया था और इस बैंक 1969 में राष्ट्रीयकरण हुआ और भारत सरकार द्वारा चलाया जाने लगा इस बैंक में 20924 से ज्यादा कर्मचारी काम करते है।

बैंक ऑफ़ इंडिया का हेडक्वाटर:-channai india

इंडिया ओवरसीज बैंक का इतिहास

इंडिया ओवरसीज बैंक की स्थापना 10 february 1937 में M. Ct. M. Chidambaram Chettyar के द्वारा किया गया था इस बैंक में 31846 से ज्यादा कर्मचारी काम करते है तथा 3400 से भी ज्यादा इसकी भारत में शाखाये है।

इंडिया ओवरसीज का हेडक्वाटर:-Chennai, Tamil Nadu, India

पंजाब & सिंड बैंक का इतिहास

पंजाब & सिंड बैंक का स्थापना 24 जून 1908 में वीर सिंह के द्वारा किया गया था इस बैंक के 1559 से ज्यादा इंडिया के अंदर ब्रांच है इस बैंक में 10337 से ज्यादा कर्मचारी काम करते है इस बैंक के SEO हरी शंकर है।

पंजाब & सिंड बैंक का हेडक्वाटर:-Rajendra Place New Delhi, India

पंजाब नेशनल बैंक का इतिहास

पंजाब नेशनल बैंक का स्थापना 12 अप्रैल 1894 में दयाल सिंह मजिठिआ और लाला लाजपत राव द्वारा किया था पंजाब नेशनल बैंक 103000 से भी अधिक कर्मचारी काम करते है इस बैंक के लगभग 11800 इंडिया में शाखाये है।

पंजाब नेशनल बैंक का हेडक्वाटर:-New Delhi, India

सिंडिकेट बैंक का इतिहास

सिंडिकेट बैंक का स्थापना सन 1925 में उपेंद्र अनंथा पाई द्वारा किया गया था इस बैंक 35000 से भी ज्यादा लोग काम करते है सिंडिकेट बैंक 1 अप्रैल 2020 में केनरा बैंक से साथ जोड़ दिया गया है।

सिंडिकेट बैंक का हेडक्वाटर:-Manipal, Udupi, Karnataka

यूको बैंक का इतिहास

यूको बैंक का स्थापना 6 जनवरी 1943 में घनश्याम दास बिरला द्वारा किया गया इस बैंक सीईओ अतुल कुमार गोयल है इस बैंक 24724 से अधिक कर्मचारी काम करते है इस बैंक को भारत सरकार चलाया जाता है।

यूको बैंक का हेडक्वाटर:-Kolkata, West Bengal, India

यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया का इतिहास

यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया का स्थापना 11 नवम्बर 1919 में किया गया था इस बैंक को 100 साल पहले मुंबई से शुरुआत की गयी थी इस बैंक का 9500 से अधिक इंडिया में अलग अगल जगहों पर शाखाये है तथा इस बैंक में 75000 से भी ज्यादा लोग काम करते है।

यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया का हेडक्वाटर:-Mumbai

यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इंडिया का इतिहास

यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इंडिया का स्थापना सन 1950 में नरेंद्र चंद्रा दत्ता द्वारा किया गया था इस बैंक को 1 अप्रैल 2020 में पंजाब नेशनल बैंक से जोड़ दिया गया है इस बैंक में 15151 से भी ज्यादा कर्मचारी काम करते है।

यूनाइटेड बैंक ऑफ़ इंडिया का हेडक्वाटर:-Kolkata, West Bengal, India

विजया बैंक का इतिहास

विजया बैंक का स्थापना 23 अक्टूबर 1931 में ऐ०बी० शेट्टी द्वारा मंगलुरु में किया गया था इस बैंक में 16069 से भी अधिक कर्मचारी काम करते है तथा 2136 पुरे इंडिया इसके ब्रांच है और 2155 से अधिक एटीएम मशीन अलग अलग लगाई गयी है।

विजया बैंक का हेडक्वाटर:-Banglore, karnatka, india

आंध्रा बैंक का इतिहास

आंध्रा बैंक का स्थापना 28 नवम्बर 1923 में भोगराजु पट्टाभि सीतारामय्या ने किया गया था इस बैंक को 1 अप्रैल 2020 में यूनियन बैंक ऑफ़ इंडिया में मर्ज यानि जोड़ दिया गया इस बैंक में 20981 से अधिक कर्मचारी काम करते है तथा 2885 से ज्यादा पुरे भारत में इस बैंक की शाखाये है।

आंध्रा बैंक का हेडक्वाटर:-Hyderabad in Telangana

कॉर्पोरेशन बैंक का इतिहास

कॉर्पोरेशन बैंक का स्थापना 12 मार्च 1906 में खान बहादुर हाजी अब्दुल्लाह और हाजी करिम साहब ने किया था इस बैंक में 19569 से अधिक कर्मचारी काम करते है इस बैंक को 1 अप्रैल 2020 में यूनियन बैंक के साथ मर्ज कर दिया और यूनियन बैंक के नाम से जाना जाने लगा।

कॉर्पोरेशन बैंक का हेडक्वाटर:-Mangalore, Karnataka, India

ओरिएंटेल बैंक ऑफ़ कॉमर्स का इतिहास

ओरिएंटेल बैंक ऑफ़ कॉमर्स का स्थापना 19 फरवरी 1943 में राय बहादुर सोहन लाल के द्वारा किया गया था इस बैंक को 1 अप्रैल 2020 से पंजाब नेशनल बैंक में मर्ज कर दिया गया है इस बैंक में 19731 से अधिक काम करते है तथा 2390 इस बैंक के ब्रांच है और 2625 से अधिक एटीएम मशीन है।

ओरिएंटेल बैंक ऑफ़ कॉमर्स का हेडक्वाटर:-Gurgaon, Haryana, India

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया का इतिहास

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया का स्थापना 1 जुलाई 1955 में रजनीश कुमार द्वारा किया गया था स्टेट बैंक देश का सबसे बड़ा बैंक है इस बैंक में 257252 से भी अधिक कर्मचारी काम करते है तथा स्टेट के 22141 शाखाये और 58555 एटीएम मशीन है पुरे भारत में और बहुत ट्रस्टेड बैंक है।

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया का हेडक्वाटर:-State Bank Bhawan, M.C. Road, Nariman Point, Mumbai, Maharashtra, India

ये थे भारत के कुल सरकारी बैंक जिनमे आप आसानी अपना खाता ओपन कर सकते है और जिनते भी सरकारी बैंक है वो कही न कही प्राइवेट बैंको के मुकाबले बहुत ट्रस्टेड है।

भविष्य में कितने सरकारी बैंक बचेंगे?

sarkari-bank-naam-list

क्या आपको ये जानकारी है की आने वाले समय में भारत में कुल कितने सरकारी बैंक बचेंगे ये अधिकतर लोगो को नहीं पता होगा क्योकि इसका कोई ऑफिसियल अनाउंसमेंट अभी तक नहीं हुआ है इस लिए ज्यादातर लोग नहीं जानते होंगे इसकी जानकारी मैं आपको देने वाला हूँ जिससे आप अपको बैंक में खाता खोलने में आसानी हो।

बैंकिंग इंडस्ट्री के सूत्रों से यह जानकारी मिली है की जल्दी ही भारत में कुल पांच सरकारी बैंक बचेंगे इकोनॉमिक्सटाइम के अनुसार यह खबर लिखी गयी जिसमे यह बताया गया है की सरकारी पांच बचेंगे बांकी सरकारी बैंको की हिस्सेदारी को सरकारी बेचेगी बैंकिंग क्षेत्र में यह बड़ा बदलाव होने जा रहा है जो सरकार के द्वारा कुछ समय में किया जायेगा।

पहले चरण में बैंक ऑफ़ इंडिया, सेंट्रल बैंक ऑफ़ इंडिया, इंडियन ओवरसीज बैंक, यूको बैंक, बैंक ऑफ़ महाराष्ट्र, पंजाब एंड सिंड बैंक, की हिस्सेदारी को सरकारी बेचेगी जिसका अभी तक कोई ऑफिसियल बात नहीं की गयी है ये जानकारी वरिष्ठ सरकारी अधिकारी के द्वारा दी गयी है जो आगे सरकार के द्वारा फैसला लिया जाने वाला है।

भारत में मौजूद दर्जनों सरकारी बैंको में से अब 4-5 सरकारी बैंक बचेंगे बाकि के सारे बैंको का निजीकरण या हिस्सेदारी बेचीं जाएगी जिससे सरकार के पास पांच बैंको के हिस्सेदारी बचेगी अभी तक यह भी तय नहीं है की भारत में कौन कौन से सरकारी बैंक बचेंगे इसका सरकार फैसला करेगी।

सरकारी और प्राइवेट बैंक में क्या अंतर है?

सरकारी बैंक और प्राइवेट बैंक में काफी अंतर होता है जैसे सरकारी बैंक के 50% से अधिक शेयर गवर्नमेंट के पास जमा होता है उस हिस्सेदारी को गवर्नमेंट कुछ भी कर सकती है चाहे तो बेच सकती है या फिर रख सकती है वही प्राइवेट बैंक का गवर्नमेंट के पास कुछ शेयर नहीं जमा होता है पूर्ण स्वामित बैंक के पास ही होता है।

प्राइवेट बैंक पर अधिकतर व्यक्ति ट्रस्ट नहीं करते है सरकारी बैंक के मुकाबले, बहुत सारे लोग यह चाहते है की सरकारी बैंक में ही अपना अकाउंट ओपन करे सरकारी बैंक में बचत अकाउंट पर अकाउंट मेन्टेन बैलेंस कम होता है प्राइवेट बैंक के मुकाबले सरकारी बैंक अधिक सुविधाएं ग्राहक को देता है।

सरकारी बैंको में किसी भी काम को करवाने में काफी समय लग जाता है वही प्राइवेट बैंक में बहुत जल्दी आसानी से काम हो जाता है प्राइवेट सेक्टर के बैंक अपने ग्राहकों को सुविधाएं देने में काफी आगे है।

सरकारी बैंक में काम करनवाने के लिए कई दिनों तक बैंको का चक्कर लगाना पड़ता है फिर बड़ी बड़ी लाइन में लगकर काम को करवाना पड़ता है कोई सुनवाई नहीं होती है वही प्राइवेट बैंक में किसी काम को लेकर आसानी से बिना किसी लाइन में लगे आपके कामो को किया जाता है जिससे यह सुविधा प्राइवेट बैंक की अच्छी लगती है।

सरकारी बैंक अपने ग्राहकों को कम व्याज पर लोन देता है प्राइवेट बैंक के मुकाबले, प्राइवेट बैंक से आम आदमी को लोन लेने में कठिनाई होती है सरकारी बैंक के मुकाबले, इससे यह समझ आता है की कुछ फायदे सरकारी बैंक में है और कुछ फायदे प्राइवेट बैंक में है।

सरकारी बैंको में अकाउंट ओपन करने के लिए कई दिनों तक बैंक के चक्कर लगाने पड़ते है ऑनलाइन अकाउंट खोलने की सुविधा नहीं देते है वही प्राइवेट बैंक में आपको ऑनलाइन अकाउंट खोलने की सुविधा के साथ साथ बैंक में कम समय आसानी से खाता खोलने का सुविधा मिल जाता है जो ग्राहकों को काफी पसंद आता है।

निष्कर्ष

मै उम्मीद करता हूँ कि आपको सरकारी बैंक नाम लिस्ट (sarkari bank list) और सरकारी बैंक कौन कौन से है इस पोस्ट से काफी हेल्प मिला होगा और आपके सरकारी बैंक (sarkari bank) से सम्बंधित सारे प्रॉब्लम दूर हो गये होंगे जो अगर आपको इससे सम्बंधित कोई सवाल है तो आप कमेंट करके पूछ सकते है मै उसका जवाब आपको ज़रूर दूंगा।

इस लेख को पढ़कर कोई भी आसानी से sarkari bank name के बारे में जान सकता है और भविष्य में कितने सरकारी बैंक बचेंगे इसकी भी जानकारी मैंने इस लेख में दी इसे पढ़कर आपको यह जानकारी ज़रूरी हो गयी होगी कितने सरकारी बैंक है और भविष्य में कितने बचेंगे।

यदि आप ऐसे पोस्ट पढ़ेंने में इंटरेस्ट रखते है तो आप हमारे फेसबुक और इंटस्टाग्राम के पेज को फॉलो करे और हर रोज नई नई जानकारी पाये हिंदी में, इस ब्लॉग पर काफी यूज़फूल जानकारी मैं शेयर करता रहता हूँ इस लिए इस ब्लॉग से जुड़े रहे यह जानकारी आपको अच्छी लगी हो तो इसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर शेयर करे ताकि अधिक लोगो तक यह जानकारी आसानी से पहुंच सके।

4 Comments

  1. Sar hamen canara Bank ke staff pension ke bare mein Bata puchna hai ki kya mere Papa staff acceptance rahe hain to kya unki beti ko pension nahin milegi
    Please aap hamen bataen kya canara Bank yah suvidha unke bacchon ko nahin deti unki beti upar ashrith thi aap vivah hic hai to Kya pension use nahin milegi
    🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
    Please sar hamen bataen

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!