भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम क्या था?

क्या आपको भारत के केंद्रीय बैंक यानि आरबीआई का पूराना नाम पता है अधिकांश लोगो नहीं पता होगा चिंता करने की आवश्यकता नहीं है चलिए मैं आपको आगे की लेख में भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम क्या था. मैं आपको बताता हूँ भारत में चल रहे सभी बैंको का मालिक आरबीआई बैंक है आज इसी विषय की विशेष चर्चा करेंगे।

भारतीय रिज़र्व बैंक का स्थापना 1 अप्रैल 1935 में आरबीआई एक्ट 1934 के अनुसार की गयी थी यह भारत का एक केंद्रीय बैंक है आरबीआई की स्थापना में बाबा साहेब अम्बेडकर ने अहम् भूमिका निभाई थी आरबीआई का मुख्यालय प्रारम्भ में कोलकाता में स्थापित किया फिर 1937 में मुंबई में स्थापित कर दिया गया था वर्तमान आरबीआई का हेडक्वाटर मुम्बई में ही स्थित है।

आरबीआई की 1935 में एक निजी स्वामित बैंक के रूप में स्थापना की गयी थी परन्तु भारत के स्वंतत्र होने के बाद 1 जनवरी 1949 में भारतीय रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया का राष्ट्रीयकरण हुआ उसके बाद से भारत सरकार की पूर्ण स्वामित आरबीआई बैंक पर हो गया था तब से अभी तक भारत सरकार के द्वारा आरबीआई का संचालन किया जा रहा है।

भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम।

bhartiye-reserve-bank-ka-purana-naam.

इंटरनेट पर काफी प्रश्न सर्च किये जाते है की आरबीआई का पुराना नाम क्या है. रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया का पुराना नाम क्या था. तो मैं इन सवालों का जवाब देने वाला हूँ कई लोग बताते है भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम:-The Imperial Bank Of India” है कई वेबसाइट पर भी आपको यह देखने को मिल जायेगा लेकिन ये बिलकुल गलत है।

भारतीय रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के अस्तित्व में आने के बाद इसी वर्तमान नाम से जाना जाता था यह ज़रूर है की आरबीआई की स्थापना ब्रिटिस्ट राज्य में की गयी थी तब भी “Reserve Bank Of India” के नाम से प्रचलित था वही राष्ट्रीयकरण होने के बाद भी भारतीय रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के नाम से जाना जाता है अब आपको यह पता चल गया होगा की भारतीय रिज़र्व बैंक का कोई पुराना नहीं था।

यदि हम बात करे “The Imperial Bank Of India” की तो यह “State Bank Of India” का पुराना नाम था जिसे 1955 में पूरी तरह से कन्वर्ट कर दिया गया था जिसे कई लोग इंटरनेट पर बताते है की भारतीय रिज़र्व बैंक का पुराना नाम द इम्पीरियल बैंक ऑफ़ इंडिया था लेकिन यह सच नहीं है अब आपको सच पता चल गया होगा।

भारतीय रिजर्व बैंक के संस्थापक कौन थे?

1926 में रॉयल कमीशन ने केंद्रीय बैंक के लिए सिफारिस की थी उसके बाद 1935 में ब्रिटिस्ट राज्य में आरबीआई की स्थापना की गयी थी उस समय आरबीआई के गवर्नर का पद सर ओसबोर्न स्मिथ को मिला था जिनका कार्यकाल 1 अप्रैल 1935 से 30 जून 1937 तक था उसके बाद सर जेम्स ब्रेड टेलर को 5 वर्ष के लिए गवर्नर का पद का मिला 1 जुलाई से 1937 से 17 फरवरी 1943 तक रहा फिर सी डी देशमुख को गवर्नर का पद मिला तब तक भारत स्वतत्र हो चूका था उसके कुछ ही दिनों बाद 1949 में आरबीआई का राष्ट्रीयकरण हुआ फिर भारत सरकार के द्वारा आरबीआई को संचालित किया जाने लगा।

इसे भी पढ़े…

भारतीय रिजर्व बैंक के प्रतीक चिन्ह पर कौन सा पशु अंकित है?

यह एक अहम् प्रश्न है आरबीआई के आधिकारिक प्रतीक चिन्ह में कौन सा पशु बना है अधिकांश लोगो को इसका जवाब पता नहीं होगा तो मैं आपको बता दू इस प्रतीक चिन्ह (Logo) में बाघ और ताड़ का पेड़ छपा है इसे ईस्ट इंडिया कंपनी से Logo लिया गया है यह एक भारतीय रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया का प्रतीक चिन्ह है।

ईस्ट इंडिया कंपनी के प्रतीक चिन्ह में शेर और ताड़ का पेड़ था नया चिन्ह इसी तरह होना था आरबीआई के मुताबिक प्रतीक चिन्ह बनाने के दौरान यह विचार किया गया था की जोर दिया जाये इसकी सरकार से बहुत ज्यादा करीबी नहीं है साथ ही चिन्ह का डिज़ाइन भारतीय होना चाहिए थी इसके बाद फैसला किया गया की शेर की जगह प्रतीक चिन्ह में बाघ छापा जायेगा क्योकि उस समय बाघों की संख्या काफी हुआ करती थी।

निष्कर्ष

मुझे आशा है की भारतीय रिजर्व बैंक का पुराना नाम क्या था. इससे सम्बंधित जानकारी आपको प्राप्त हो गयी होगी इसमें मैंने कई प्रश्नो के उत्तर दिए है जिसे आप पढ़कर जानकारी ले सकते है उम्मीद है यह लेख आपको पसंद आया होगा और आपको बेहतर ज्ञान मिला होगा यदि आपको इस लेख से जुड़े कोई प्रश्न है तो आप निचे कमेंट बॉक्स का सहारा ले सकते है और प्रश्न पूछ सकते है उसका जवाब आपको अवश्य दिया जायेगा।

आरबीआई से जुडी जानकारी आपको कैसे लगी यह भी कॉमेंट के जरिये बता सकते है यह आर्टिकल यूज़फुल रहा हो इससे सहायता मिला हो तो इसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर शेयर करना न भूले ताकि यह जानकारी और लोगो तक पहुंच सके।

ऐसे ही जानकारी हिंदी भाषा में पाने के लिए हमारे सोशल मीडिया से जुड़ सकते है वहा पर बहुत सारी जानकारी शेयर करता रहता हूँ आप हमारे ऑफिसियल इंस्टाग्राम पेज @catchit.in को फॉलो करे वहा पर मैं आप सभी के प्रश्नो के उत्तर दूंगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!