RBI क्या है और काम कैसे करता है?

हेलो दोस्तों Catchit.in  में आपका बहुत बहुत स्वागत है दोस्तों आज हम लोग जानेगे कि RBI क्या है और काम कैसे करता है भारतीये रिज़र्व बैंक ये देश का केन्द्रीय बैंक है इसी बैंक के जरिये से भारत जितने भी बैंक है उन बैंको को रेगुलेट किया जाता है भारत में जितने भी व्यापारिक बैंक उनकी वित्तीय सुरक्षा करना तथा सारे बैंको को लोन देना भारतीये रिज़र्व बैंक कार्य करता है 

RBI Bank

रिज़र्व बैंक की स्थापना Establishment of Reserve Bank

भारतीय रिज़र्व बैंक की स्थाना 1 April 1935 में भारतीय अधिनियम 1934 के अंतरगत 5 करोड़ रूपये की धन्य राशि से किया गया था भारतीय रिज़र्व का केंद्रीय कार्यालय प्रारम्भ में कोलकाता में था जिसे 1937 में बदलकर मुंबई में कर दिया गया केंद्रीय कार्यालय उसे कहते है जहा गवर्नर बैठते है तथा जहा नीतियों का निर्धारण किया जाता है सन 1949 में इसका राष्ट्रीयकरण करके भारत सरकार का पूर्ण स्वामित्व हो गया.

भारतीय रिज़र्व बैंक के कार्य Function of RBI 

नोट जारी करना Issue Note-इसे यह एकाधिकार कि यह नोट को निर्गमित करे और इसे एक के नोट को छोड़ के बाकी सारे नोटों को निर्गमित RESERV BANK OF INDIA करता है एक के नोट को भारत सरकार निर्गमित करती है

नोटों की छपाई करने के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक MRS (MINIMUM RESERV SYSTEM) के नियम को अपनाता है इस नियम के तहत 1957 में सोने तथा विदेशी मुद्रा के रूप में 200 करोड़ के की मुद्रा को रिज़र्व रखकर तब नोटों को निर्गमित किया जाता है तथा इसमें 115 करोड़ का सोने तथा 85 करोड़ विदेशी मुद्रा के रूप में रखा जाता है

बैंको का बैंक-भारतीय रिज़र्व बैंक अन्य वाणिज्य बैंक के लिए ठीक उसी प्रकार कार्य करता है जैसे वाणिज्य बैंक ग्राहकों के लिए करता है भारतीय रिज़र्व बैंक अन्य वाणिज्य बैंको को लोन (Loan) देने का कार्य करता है तथा ये देश के सारे बैंको के कार्य करता है इसीलिए इसको बैंको का बैंक भी कहते है 

क्रेडिट का नियंत्रण-भारतीय रिज़र्व बैंक वाणिज्य बैंको द्वारा क्रेडिट को नियंत्रण करने की जिम्मेदारी लेता है.  इस उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए यह देश में ऋण को नियंत्रण करने के लिए देश में विनिमय को नियंत्रण करने के लिया यह मात्रात्मक और गुणात्मक पद्धतियों का उपयोग करता है जब भारतीय रिज़र्व बैंक यह देखता है की बाजार में मुद्रा की कमी है तथा इससे अर्थव्यवस्ता पर बुरा प्रभाव पद रहा है तो इसकी पूर्ति करने के लिए वह कणे मैद्रिक नीतियों का उपयोग करके इसकी आपूर्ति को पूर्ण करता है तथा इससे मुद्रा स्फीति से बचा जा सकता है

विदेशी मुद्रा भंडार का संगरक्षण या सुरक्षा-भारतीय रिज़र्व बैंक विदेशी मुद्रा को स्थिर रखने के लिए विदेशी मुद्रा को खरीदता व बेचता है तथा पुरे देश में यह विदेशी मुद्रा भण्डार की सुरक्षा करता है विदेशी मुद्रा बाजार में जब विदेशी मुद्रा कम हो जाती हैं तो ये बैंक विदेश को मुद्रा बेचता है जिसके कारन मुद्रा की आपूर्ति बढ़ जाती है तथा ऐसी प्रकार जब देश में विदेशी मुद्रा कम हो जाती है तो विदेश से मुद्रा भारतीय रिज़र्व बैंक खरीदता है वर्तमान में भारत के पास विदेशी मुद्रा के रूप में 360 बिलियन अमेरिकी डालर है.

अन्य कार्य-यह बहुत से अन्य कार्य भी करता है इस कार्य के अंतर्गत कृषि ऋण अनुमोदित तथा कार्यन्वयण जोकि नाबार्ड को स्थानांतरण करता है सरकारी प्रतिभूतियों तथा व्यवारिक बिलो को भी बचाता तथा खरीदता है सरकारी प्रतिभूतियों के लिए बिल देना तथा काफी मूल्यमान वस्तुओ की बिक्री भी शामिल किया जाता है.

रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के गवर्नर Governor Of RBI 

भारतीय रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया के गवर्नर शक्तिकांत दास सर जी जोकि 25 वे गवर्नर है तथा इनका जन्म 26 Feb 1957 में हुआ था दस जी इससे पहले भारत के पंद्रहवी वित्त आयोग और 20 के शेरपा सदस्य थे। इनका कार्य की शुरुआत 11 Feb 2018 में उर्जित पटेल के बाद शुरू हुआ था.

नोट:-मै उम्मीद करता हु कि आपको इस RBI क्या है और काम कैसे करता है इस पोस्ट से आपको बहुत हेल्प मिली होगी और (Reserve Bank of India) से सम्बंधित सारे प्रॉब्लम दूर हो गये होंगे और RBI के बारे बेहतर जानकारी मिली होगी तो ऐसे पोस्ट को पढ़ने के लिए हमारे फेसबुक और इंस्टाग्राम के पेज को लाइक और फॉलो करे और सबसे पहले जानकारी पाये और आर्टिकल को शेयर करे। (धन्यवाद)

1 Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!