पोस्ट ग्रेजुएट (Post Graduate) क्या होता है? हिंदी में।

यदि आपने स्कूलिंग पूरी करली है और कॉलेज में प्रवेश ले चुके है या स्कूलिंग करते समय ही पोस्ट ग्रेजुएट क्या होता है. पीजी क्या होता है. पीजी कोर्स क्या है. इन प्रकार के सवाल जरूरी सुने होंगे आज का लेख इसी विषय पर होने वाला है इसके अतिरिक्त सवालो के बारे में भी पढ़ेंगे।

अधिकांश छात्र ग्रेजुएशन करके पढाई छोड़ देते है और पोस्ट ग्रेजुएशन नहीं करते है क्योकि पीजी का महत्वा उन्हें नहीं पता होता है वर्तमान में पोस्ट ग्रेजुएशन करना बहुत आवश्यक है क्योकि मार्किट में कम्पटीशन आये दिन बढ़ता जा रहा है जिससे हायर शैक्षणिक योग्यता वाले छात्र को थोड़ा सा सहूलियत मिलता है।

पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद कोई ज़रूरी नहीं है नौकरी लग ही जाये लेकिन नौकरी पाने में काफी हद तक मदद कर सकता है क्योकि पीजी हायर एजुकेशन में आता है इस लिए हाई ग्रेड की वैकेंसी में पोस्ट ग्रेजुएशन की मांग की जाती है।

कहा जाता है की पढाई जितना भी करलो कम है पढाई ख़तम नहीं होता है तो यह सत्य है हर क्षेत्र के कोर्सो को कई लेबल में बाटा गया है जैसे इंटरमीडिएट के बाद ग्रेजुएशन फिर पोस्ट ग्रेजुएशन होता है आगे चाहे तो पीएचडी भी कर सकते है इसके आगे की पढाई भी कर सकते है।

पोस्ट ग्रेजुएट क्या होता है?

Post graduate एक मास्टर डिग्री कोर्स है जिसमें बैचलर डिग्री उत्तीर्ण करके छात्र प्रवेश ले सकते है जिसे करने के लिए Under graduation पूरा करना ज़रूरी है इस कोर्स में वही छात्र शामिल हो सकते है जिनका ग्रेजुएशन कम्पलीट हो चूका है पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद छात्र पोस्ट ग्रेजुएट हो जाते है।

अधिकतर जॉब में हायर क्वालिफिकेशन की आवश्यकता पड़ती है तभी आप अपने मनचाही जॉब के लिए अप्लाई कर सकते है अन्यथा ग्रेजुएशन करके आज के युग में ज़रूरी नहीं की आप अपनी ड्रीम जॉब पा जाये।

क्योकि अपर पद के लिए उच्च शैक्षणिक योग्यता होना ज़रूरी है कई पदों की वैकेंसी के लिए पोस्ट ग्रेजुएशन अनिवार्य कर दिया गया है इसी कारण से अधिकतर छात्र की रूचि पोस्ट ग्रेजुएशन की ओर बढ़ी है पीजी कोर्स को कम्पलीट करने के लिए कई कोर्स किये जा सकते है जिसकी बात हम आगे के लेख में करेंगे।

इसे भी देखे,

पीजी क्या होता है?

कई बार छात्र कंफ्यूज हो जाते है की पीजी और पोस्ट ग्रेजुएशन दोनों अलग अलग चीजे है लेकिन नहीं दोस्तों पीजी का पूरा नाम या फुल फॉर्म Post graduation होता है इसे शार्ट फॉर्म में PG कहा जाता है।

यह एक Master Degree course है जिसको Bachelor Degree course पूरा करने के बाद किया जाता है जिसे स्नातकोत्तर कहा जाता है पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री हासिल करने के लिए कई विकल्प होते है जिन कोर्सो को पूरा करके आसानी से पीजी कम्पलीट कर सकते है।

पीजी कोर्स क्या है?

पीजी यानि पोस्ट ग्रेजुएशन कई कोर्सो को करके पूरा कर सकते है आप चाहे तो जिस क्षेत्र में ग्रेजुएशन पूरा किये है उसी क्षेत्र में पीजी करे या कुछ ऐसे भी ग्रेजुएशन कोर्स है जिसे करने के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए दूसरा कोर्स भी चुन सकते है।

जैसे ग्रेजुएशन आपने B,BA B,com या B,A करके पूरा किया है आगे MBA भी कर सकते है या फिर BA वाले छात्र MA कर सकते है और Bcom वाले छात्र Mcom कर सकते है और BBA वाले छात्र MBA कर सकते है ऐसा भी हो सकता है।

PG Course List in hindi

इन कोर्सो को पूरा करने के बाद आप पोस्ट ग्रेजुएट हो सकते है आपको पोस्ट ग्रेजुएशन उसी क्षेत्र में करना चाहिए जिस क्षेत्र में आपने ग्रेजुएशन पूरा किया है या फिर जिस क्षेत्र में आपका दिलचस्पी हो उसी फील्ड में पोस्ट ग्रेजुएशन करे।

पोस्ट ग्रेजुएशन कितने साल का होता है?

अब सवाल आता है की पीजी कोर्स कितने साल का होता है मैं आपको बता दूँ अधिकतर पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स 2 Years यानि दो साल के होते है और कुछ कोर्स जैसे MLib कोर्स 1 Year यानि एक साल का होता है लेकिन अधिकांश पीजी कोर्स दो साल के ही होते है।

स्नातकोत्तर का मतलब क्या होता है?

जब किसी छात्र के द्वारा बैचलर डिग्री पूरी की जाती है तो वह स्नातक हो जाता है लेकिन जब छात्र स्नातक पूरा करके पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स की पढाई पूरी कर लेता है तो स्नातकोत्तर हो जाता है।

आसान शब्दों में आप यह कह सकते है की पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त कर लेने वाले छात्र को स्नातकोत्तर कहा जाता है क्योकि वह शिक्षा के क्षेत्र में मास्टर डिग्री प्राप्त कर लिया होता है अब स्नातकोत्तर किसे कहते हैं जान गए होंगे।

पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद क्या करे?

यदि आपका पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा हो चूका है तो क्या करे इस विषय पर चर्चा करते है की किस क्षेत्र में अपना करियर बनाये।

  • बैंकिंग फील्ड : अगर आपने बैंकिंग या फाइनेंस से जुड़े हुए कोर्सो से पोस्ट ग्रेजुएशन की है जैसे एमबीए एमकॉम कोर्स करके पीजी कम्पलीट की है तो अप्प बैंक सेक्टर में इन पदों पर करियर बना सकते है ब्रांच मैनेजर, कैशियर, बैंक क्लर्क, एरिया मैनेजर, लोन मैनेजर, ऑपरेशन मैनेजर, प्रोविशनरी अफसर, पद पर भर्ती हो सकते है।
  • प्राइवेट या कॉर्पोरेट सेक्टर : इन क्षेत्रो में भी पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद कई करियर विकल्प खुल जाते है कॉर्पोरेट या प्राइवेट सेक्टर को हमेशा ग्रो करते देखा गया है इसमें भी अच्छा अवसर है यहा से भी अच्छी सैलरी पैकेज प्राप्त कर सकते है।
  • आईटी फील्ड : अगर आपने आईटी इनफार्मेशन ऑफ़ टेक्नोलॉजी में कोई कोर्स किया है तो यह सेक्टर भी काफी तेजी से ग्रोथ करता जा रहा है इस सेक्टर में आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर, प्रोडक्ट मैनेजर, सॉफ्टवेयर डेवलपर, इत्यादि पदों हायर किये जा सकते है।
  • सेल्स या मार्केटिंग सेक्टर : यह क्षेत्र भी काफी तेजी से बढ़ रहा है सेल्स और मार्केटिंग के क्षेत्र में उन छात्र का चुनाव किया जाता है जो पोस्ट ग्रेजुएशन में एमबीए या एमकॉम वाले छात्र है उनके लिए यह सेक्टर काफी लाभकारी हो सकता है।
  • डिजिटल मार्केटिंग : यह एक ऐसा क्षेत्र है जिसमे पिछले 4 – 5 सालो में बढ़ता हुआ दिखाई दिया है क्योकि अभी सारे ऑफलाइन प्लेटफॉर्मो को ऑनलाइन शिफ्ट किया जा रहा है जिस कारण से एसईओ मैनेजर, ईमेल मार्केटिंग मैनेजर, पीपीसी मैनेजर, डिजिटल मार्केटिंग मैनेजर, जैसे जॉब प्राप्त कर सकते है।

निष्कर्ष

मैं आशा करता हूँ की यह लेख आपको पसंद आया होगा इस लेख में बताया गया है की पोस्ट ग्रेजुएट क्या होता है. इसका मतलब क्या होता है पीजी क्या है. और पीजी कोर्स क्या है. ऐसे सवालो का जवाब मैंने इस लेख में संलंग्न किया है जिससे आसानी से स्नातकोत्तर के बारे जानकारी हासिल कर सकते है।

यदि आर्टिकल में दी गयी जानकारी से सम्बंधित कोई सवाल या डाउट है तो आप पूछ सकते है उसका जवाब अवश्य दिया जायेगा यह लेख पसंद आय हो सहायता मिला हो तो इसे अपने मित्रो के साथ शेयर करे ताकि उन्हें भी यूज़फुल इन्फॉर्मेशन मिल सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!