पोस्ट ग्रेजुएट क्या होता है – पीजी कोर्स क्या है, पीजी कोर्स लिस्ट

यदि आपने स्कूलिंग पूरी करली है। और कॉलेज में प्रवेश ले चुके है। या स्कूलिंग करते समय ही पोस्ट ग्रेजुएट क्या होता है. पीजी क्या होता है. पीजी कोर्स क्या है. या post graduation in hindi. post graduate in hindi क्या है. ऐसे प्रश्न आपके मन में ज़रूर आते होंगे। आज का लेख इसी विषय पर होने वाला है। इसके अतिरिक्त पोस्ट ग्रेजुएशन से जुड़े सवालो के बारे में भी जानेंगे।

अधिकांश छात्र ग्रेजुएशन करके पढाई छोड़ देते है। और पोस्ट ग्रेजुएशन नहीं करते है। क्योकि पीजी का महत्वा उन्हें नहीं पता होता है। वर्तमान में पोस्ट ग्रेजुएशन करना बहुत आवश्यक है। क्योकि मार्किट में कम्पटीशन आये दिन बढ़ता जा रहा है। जिससे उच्च शैक्षणिक योग्यता वाले छात्र को थोड़ा सा सहूलियत मिलता है। इसलिए आप भी पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करे। मास्टर डिग्री हासिल करे।

पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद कोई ज़रूरी नहीं है। की नौकरी लग ही जायेगा। लेकिन नौकरी पाने में काफी हद तक मदद कर सकता है। क्योकि पीजी हायर एजुकेशन में आता है। इसलिए हाई ग्रेड की वैकेंसी में पोस्ट ग्रेजुएशन की मांग की जाती है। और उन्ही छात्रों को चुना जाता है जिसके पास पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री होती है।

कहा जाता है की पढाई जितना भी करलो कम है। पढाई ख़त्म नहीं होता है। तो यह सत्य है हर क्षेत्र के कोर्सो को कई लेबल में बाटा गया है। जैसे इंटरमीडिएट के बाद ग्रेजुएशन फिर पोस्ट ग्रेजुएशन उसके बाद पीएचडी कोर्स होता है। आगे चाहे तो पीएचडी भी कर सकते है। इसके आगे भी पढाई कर सकते है।

पोस्ट ग्रेजुएट क्या होता है – post graduate kya hota hai?

पोस्ट ग्रेजुएट क्या होता है

Post graduate एक मास्टर डिग्री कोर्स है। जिसमें बैचलर डिग्री उत्तीर्ण करके छात्र प्रवेश ले सकते है। जिसे करने के लिए Under graduation पूरा करना ज़रूरी है। इस कोर्स में वही छात्र शामिल हो सकते है। जिनका ग्रेजुएशन कम्पलीट हो चूका है। पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद छात्र पोस्ट ग्रेजुएट हो जाते है. और उन छात्रों को पोस्ट ग्रेजुएट की डिग्री प्राप्त हो जाती है। उन्हें Post Graduate स्नातकोत्तर भी कहा जाता है।

अधिकतर जॉब में हायर क्वालिफिकेशन की आवश्यकता पड़ती है। तभी अभियार्थी अपने मनचाही जॉब के लिए अप्लाई कर सकते है। अन्यथा ग्रेजुएशन करके आज के युग में ज़रूरी नहीं की आप अपनी ड्रीम जॉब पा जाये। बहुत सारे ग्रेजुएट छात्र भी बेरोजगार बैठे है। इसलिए हायर शिक्षा पर फोकस करे।

क्योकि अपर पद के लिए उच्च शैक्षणिक योग्यता होना ज़रूरी है। कई पदों की वैकेंसी के लिए पोस्ट ग्रेजुएशन अनिवार्य कर दिया गया है। इसी कारण से अधिकतर छात्रों की रूचि पोस्ट ग्रेजुएशन की ओर बढ़ी है। पीजी कोर्स को कम्पलीट करने के लिए कई कोर्स किये जा सकते है। जिसकी बात हम आगे के लेख में करेंगे।

अधिकतर पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स 2 वर्ष और 4 सेमेस्टर के होते है। इस कोर्स में वही विद्यार्थी प्रवेश ले पाएंगे जिनका ग्रेजुएशन कम्पलीट हो चूका है। यह एक मास्टर डिग्री कोर्स है। जिसमे सिर्फ स्नातक उत्तीर्ण विद्यार्थी ही प्रवेश ले सकते है।

मिलते जुलते आर्टिकल

Post graduation in hindi

Post Graduate का हिंदी अर्थ स्नातकोत्तर होता है। जो अधिकतर छात्रों को पता नहीं होता है। यह एक मास्टर डिग्री कोर्स है। जिस क्षेत्र में आप पढाई कर रहे है। उसी क्षेत्र से हायर एजुकेशन के लिए पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री लेनी होती है। यह सभी ग्रेजुएशन कोर्स के बाद किया जाता है। इसे करने के लिए ग्रेजुएशन पास करना अनिवार्य है।

12वीं के बाद ग्रेजुएशन कैसे करें?

पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स करने के लिए विद्यार्थी को 12वी पास करने के बाद Under Graduation कोर्स में प्रवेश लेना होगा। अंडर ग्रेजुएशन कोर्स के लिए विद्यार्थी के पास कई विकल्प रहते है जैसे बीए, बीबीए, बीकॉम, बीएससी, बीटेक, बीई कोर्स करके ग्रेजुएशन कोर्स कम्पलीट कर सकते है।

Graduation Course कम्पलीट होने के बाद विद्यार्थी Post Graduation कोर्स में प्रवेश ले सकते है। यह कोर्स 2 से 4 वर्ष के बीच होते है। पढाई पूरी करके विद्यार्थी परास्नातक हो सकते है।

पीजी क्या होता है?

कई बार छात्र कंफ्यूज हो जाते है। की पीजी और पोस्ट ग्रेजुएशन दोनों अलग अलग कोर्स है। लेकिन नहीं दोस्तों पीजी का पूरा नाम या फुल फॉर्म Post graduation होता है। इसे शार्ट फॉर्म में PG कहा जाता है।

यह एक Master Degree course है। जिसको Bachelor Degree course पूरा करने के बाद किया जाता है। जिसे स्नातकोत्तर कहा जाता है। पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री हासिल करने के लिए कई कोर्स करने विकल्प होते है। जिन कोर्सो को पूरा करके आसानी से पीजी कम्पलीट कर सकते है।

पीजी कोर्स क्या है?

पीजी यानि पोस्ट ग्रेजुएशन कई कोर्सो को करके पूरा कर सकते है। आप चाहे तो जिस क्षेत्र में ग्रेजुएशन पूरा किये है। उसी क्षेत्र में पीजी कर सकते है। या कुछ ऐसे भी ग्रेजुएशन कोर्स है। जिसे करने के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन के लिए दूसरा कोर्स भी चुन सकते है।

जैसे ग्रेजुएशन आपने B,BA B,com या B,A पूरा करके। आगे आप MBA भी कर सकते है। या फिर BA वाले छात्र MA कर सकते है। और B.com वाले छात्र M.com कर सकते है। और B.BA वाले छात्र M.BA कर सकते है। ऐसा भी हो सकता है।

PG Course List in hindi

  • M.BA (Master Of Business Administration)
  • M.A (Master Of Arts)
  • M.Tech (Master Of Technology)
  • M.com (Master Of Commerce)
  • M.Sc (Master Of Science)
  • M.ca (Master Of Computer Application)
  • M.cs (Master Of Computer Science)
  • M.Lib (Master Of Library & Information Science)
  • M.ed (Master Of Education)
  • M.sw (Master Of Social Work)
  • MMM (Master Of Marketing Management)
  • MMS (Master Of Management Studies)
  • M.Phil (Master Of Philosophy)
  • M.E (Master Of Education)
  • LL.M (Master Of Law
  • MHM (Master Of Hotel Management)

इन कोर्सो को पूरा करने के बाद आप पोस्ट ग्रेजुएट हो जायेंगे। आपको पोस्ट ग्रेजुएशन उसी क्षेत्र में करना चाहिए। जिस क्षेत्र में आपने ग्रेजुएशन पूरा किया है। या फिर जिस क्षेत्र में आपका दिलचस्पी हो। उसी फील्ड में पोस्ट ग्रेजुएशन करे।

वैसे तो आप स्वंत्र है ग्रेजुएशन पूरा करके कोई दूसरा कोर्स भी कर सकते है। लेकिन मैं कहूंगा। आपका जिस कोर्स में जिस क्षेत्र में इंटरेस्ट हो. उसी में ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन करे।

पोस्ट ग्रेजुएशन कितने साल का होता है?

अब प्रश्न आता है की पीजी कोर्स कितने साल का होता है तो मैं आपको बता दूँ अधिकतर पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स 2 Years यानि दो वर्ष के होते है। और कुछ कोर्स जैसे MLib कोर्स 1 Year यानि एक साल का होता है।

लेकिन अधिकांश पीजी कोर्स दो साल के ही होते है और हाँ कुछ कोर्स 3 साल और 4 साल के भी होते है. सभी कोर्स का अलग अलग Time Duration अवधि होता है। उसी हिसाब से आपको कोर्स की पढाई पढ़ायी जाती है।

स्नातकोत्तर का मतलब क्या होता है?

जब किसी छात्र के द्वारा बैचलर डिग्री पूरी की जाती है। तो वह स्नातक (Graduate) हो जाता है। लेकिन जब छात्र स्नातक पूरा करके पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स की पढाई पूरी कर लेता है। तो स्नातकोत्तर (Post graduate) हो जाता है।

आसान शब्दों में आप यह कह सकते है। की पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त कर लेने वाले छात्र को स्नातकोत्तर कहा जाता है। क्योकि वह शिक्षा के क्षेत्र में मास्टर डिग्री प्राप्त कर लिया होता है। अब स्नातकोत्तर किसे कहते हैं जान गए होंगे।

पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स कैसे करे?

पोस्ट ग्रेजुएट क्या होता है इसकी जानकारी प्राप्त करने के बाद अब जानते है। कोर्स कैसे करते है। इन कोर्सो को आप दो तरीको से कर सकते है। पहला आप रेगुलर मोड से कर सकते है दूसरा डिस्टेंस यानि प्राइवेट मोड से कर सकते है। दोनों तरीको की फीस अलग अलग होती है। अलग अलग सिलेबस होते है। जो आपको जानना ज़रूरी है। इसे आप किसी सरकारी विश्वविद्यालय या प्राइवेट विश्वविद्यालय से पूरा कर सकते है।

रेगुलर डिग्री प्राप्त करने के लिए आप चाहे तो एंट्रेंस एग्जाम देकर किसी अच्छे कॉलेज से पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री पूरा कर सकते है। नहीं तो किसी भी प्राइवेट कॉलेज में डायरेक्ट प्रवेश लेकर कोर्स पूरा कर सकते है। रेगुलर में आपको प्रतिदिन क्लास अटेंड करना होगा। नोट्स तैयार करने होंगे। कुछ कोर्स में असाइनमेंट भी तैयार करने होते है। जो आपको पूरा करना होगा मन लगाकर पढाई करना होगा।

उसके बाद डिस्टेंस मोड यानि प्राइवेट एजुकेशन भी ले सकते है। इसमें आपको किसी भी पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स में प्रवेश लेने के बाद आपको कॉलेज जाने की ज़रुरत नहीं होती है। यानि प्रतिदिन आपको क्लास अटेंड करने की आवश्यता नहीं होती है। केवल आपको घर रहकर पढाई करनी और एग्जाम देना होता है। जैसे कोर्स को कम्पलीट कर लेते है। तो आपको कॉलेज से डिग्री दे दी जाती है।

पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद क्या करे?

यदि आपका पोस्ट ग्रेजुएशन पूरा हो चूका है। तो क्या करे इस विषय पर चर्चा करते है। की किस क्षेत्र में अपना करियर बनाये।

  • बैंकिंग फील्ड : अगर आपने बैंकिंग या फाइनेंस से जुड़े हुए कोर्सो से पोस्ट ग्रेजुएशन की है। जैसे एमबीए एमकॉम कोर्स करके पीजी कम्पलीट की है। तो आप बैंक सेक्टर में इन पदों पर करियर बना सकते है। ब्रांच मैनेजर, कैशियर, बैंक क्लर्क, एरिया मैनेजर, लोन मैनेजर, ऑपरेशन मैनेजर, प्रोविशनरी अफसर, या इनकम टैक्स विभाग, में भर्ती हो सकते है।
  • प्राइवेट या कॉर्पोरेट सेक्टर : इन क्षेत्रो में भी पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद कई करियर विकल्प खुल जाते है। कॉर्पोरेट या प्राइवेट सेक्टर को हमेशा ग्रो करते देखा गया है। इसमें भी अच्छा अवसर है। यहा से भी अच्छी सैलरी पैकेज प्राप्त कर सकते है।
  • आईटी फील्ड : अगर आपने आईटी इनफार्मेशन ऑफ़ टेक्नोलॉजी में कोई कोर्स किया है। तो यह सेक्टर भी काफी तेजी से ग्रोथ करता जा रहा है। इस सेक्टर में आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर, प्रोडक्ट मैनेजर, सॉफ्टवेयर डेवलपर, इत्यादि पदों पर हायर किये जा सकते है।
  • सेल्स या मार्केटिंग सेक्टर : यह क्षेत्र भी काफी तेजी से बढ़ रहा है। सेल्स और मार्केटिंग के क्षेत्र में उन छात्र का चुनाव किया जाता है। जो पोस्ट ग्रेजुएशन में एमबीए या एमकॉम वाले छात्र है। उनके लिए यह सेक्टर काफी लाभकारी हो सकता है।
  • डिजिटल मार्केटिंग : यह एक ऐसा क्षेत्र है। जिसमे पिछले 4 – 5 सालो में बढ़ता हुआ दिखाई दिया है. क्योकि अभी सारे ऑफलाइन प्लेटफॉर्मो को ऑनलाइन शिफ्ट किया जा रहा है। जिस कारण से एसईओ मैनेजर, ईमेल मार्केटिंग मैनेजर, पीपीसी मैनेजर, डिजिटल मार्केटिंग मैनेजर, जैसे जॉब प्राप्त कर सकते है।
पीजी कोर्स क्या है?

मैं आशा करता हूँ की यह लेख आपको पसंद आया होगा। इस लेख में बताया गया है। कि पोस्ट ग्रेजुएट क्या होता है. इसका मतलब क्या होता है? पीजी क्या है. और post graduate in hindi क्या होता है. ऐसे कई सवालो के जवाब मैंने इस लेख में मेंशन किया है। जिससे आसानी से स्नातकोत्तर के बारे जानकारी हासिल कर सकते है।

यदि आर्टिकल में दी गयी जानकारी से सम्बंधित कोई सवाल या डाउट है। तो आप उसे पूछ सकते है। उसका जवाब अवश्य दिया जायेगा। यह लेख पसंद आय हो सहायता मिला हो। तो इसे अपने मित्रो के साथ शेयर करे ताकि उन्हें भी यूज़फुल इन्फॉर्मेशन मिल सके। ऐसी ही जानकारी के लिए हमारे ब्लॉग के होम पेज पर विजिट कर सकते है। और हेल्पफुल कंटेंट पढ़कर अपनी जानकारी को बढ़ा सकते है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!