नीट एग्जाम कितनी बार दे सकते हैं – नीट में कितनी सीट है?

नीट एग्जाम क्वालीफाई करने का बहुत सारे स्टूडेंट का सपना होता है। मेडिकल क्षेत्र का यह काफी पॉपुलर एंट्रेंस एग्जाम है। नीट से जुड़े स्टूडेंट के मन में कई प्रश्न होते है। जैसे नीट एग्जाम कितनी बार दे सकते हैं, नीट में कितनी सीट है, नीट में कितने चांस मिलते है, इन प्रश्नो के उत्तर मैं इस लेख से आपके साथ शेयर करने वाला हूँ।

ऐसे नीट से जुड़े स्टूडेंट के कई प्रश्न होते है। जिसका उत्तर स्टूडेंट को मालूम होना काफी आवश्यक होता है। इन प्रश्नो के अलावा भी नीट परीक्षा से जुड़े अन्य प्रश्न के उत्तर भी हम इस लेख के जरिये से आपको देने वाले है। इसके लिए आप यह लेख अंतिम तक पढ़े और नीट से जुड़े से सभी प्रश्नो के उत्तर जाने।

नीट एक प्रवेश परीक्षा है। नीट परीक्षा क्वालीफाई करने वाले स्टूडेंट को एमबीबीएस, बीडीएस, और आयुष्मान प्रोग्राम, जैसे पाठ्यकर्म में प्रसिद्ध सरकारी और प्राइवेट कॉलेजो में प्रवेश मिलने मौका मिलता है। इस परीक्षा को क्वालीफाई करने के पश्चात् स्टूडेंट को प्रसिद्ध सरकारी और प्राइवेट संस्थानों में मेडिकल की शिक्षा हासिल करने का मौका मिलता है।

Neet exam सबसे कठिन परीक्षा में से एक है। इस परीक्षा के स्टूडेंट सालो तैयारी करते है। नीट परीक्षा में शामिल होने के लिए न्यूनतम क्वालिफिकेशन 12वी पास होना चाहिए। उसके पश्चात् स्टूडेंट नीट परीक्षा में शामिल हो सकते है। और परीक्षा क्वालीफाई करके प्रसिद्ध कॉलेज में मार्क्स के आधार पर प्रवेश पा सकते है।

नीट एग्जाम कितनी बार दे सकते हैं?

neet-exam-kitni-bar-de-sakte-hai

अधिकतर नीट परीक्षा में शामिल होने वाले स्टूडेंट के मन में ऐसे कई प्रश्न होते है। जो स्टूडेंट को चिंतित करते रहते है। जिसमे स्टूडेंट को इस प्रश्न neet exam attempt limit in hindi. का उत्तर जानना काफी महत्वपूर्ण है। इस प्रश्न का उत्तर न मालूम होने के कारण कई अभियार्थी कम से कम एग्जाम एटेम्पट करने के बारे में सोचते है।

यदि नीट परीक्षा में शामिल होने के लिमिट की बात करे। तो अभी तक नीट परीक्षा में शामिल होने की कोई लिमिट नहीं सेट की गयी है। स्टूडेंट अनलिमिटेड एटेम्पट नीट एग्जाम का कर सकते है। नीट परीक्षा क्वालीफाई करने में स्टूडेंट को कई एटेम्पट देने पड़ते है। लेकिन स्टूडेंट निश्चिन्त होकर एक से अधिक बार नीट परीक्षा में शामिल हो सकते है।

Neet का पूरा नाम National Eligibility cum Entrance Test होता है। इस परीक्षा को NTA (National Testing Agency) के द्वारा आयोजित की जाती है। नीट परीक्षा को हर वर्ष आयोजित की जाती है। इस परीक्षा में हर वर्ष लाखो स्टूडेंट बैठते है। जिसमे कुछ ही स्टूडेंट सफल हो पाते है। और वह प्रसिद्ध मेडिकल कॉलेज में प्रवेश ले पाते है।

सरकारी मेडिकल कॉलेज से एमबीबीएस या बीडीएस कोर्स करने के लिए नीट परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य होता है। बिना नीट परीक्षा के स्टूडेंट को प्रसिद्ध मेडिकल कॉलेज में प्रवेश नहीं मिल सकता है। एमबीबीएस डॉक्टर बनने के लिए नीट परीक्षा क्वालीफाई करना अनिवार्य है। नीट परीक्षा क्वालीफाई करने से कई प्रसिद्ध कॉलेज में प्रवेश मिलने का मौका मिलता है।

मिलते जुलते लेख

नीट में कितने चांस मिलते है?

जैसा की नीट परीक्षा में शामिल होने के लिए अभी तक कोई लिमिट नहीं तय की गयी है। जिससे नीट परीक्षा में शामिल होने के कई चांस स्टूडेंट के पास होते है। स्टूडेंट जब तक चाहे नीट परीक्षा के लिए आवेदन करके परीक्षा में शामिल हो सकते है और नीट क्वालीफाई करके प्रसिद्ध कॉलेज में प्रवेश ले सकते है।

Neet Exam में चांस के लिए कोई लिमिट नहीं सेट की गयी है। इस परीक्षा में स्टूडेंट कई बार शामिल हो सकते है। और अपने मन पसंद मेडिकल कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए अच्छे मार्क्स लाकर स्टूडेंट प्रवेश पा सकते है। स्टूडेंट के मार्क्स पर ही उन्हें कॉलेज मिलता है। जो कटऑफ पर निर्भर करता है। हर बार कटऑफ कम ज्यादा हुआ करता है।

नीट एग्जाम के लिए योग्यता

नीट परीक्षा में शामिल होने के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता क्या होना चाहिए। कई अभियार्थी के मन में ऐसे प्रश्न आते होंगे। तो मैं आपको बता दू। नीट परीक्षा के लिए स्टूडेंट की न्यूनतम योग्यता 12वी साइंस साइट से उत्तीर्ण होना चाहिए। बारहवीं 50% मार्क्स से उत्तीर्ण विद्यार्थी नीट परीक्षा में शामिल हो सकता है।

न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता है। हर एक एंट्रेंस परीक्षा के तय होता है। स्टूडेंट को किसी भी प्रवेश में शामिल होने के लिए न्यूनतम योग्यता की आवश्यकता होती है। जो एंट्रेंस परीक्षा में निर्भर करता है। नीट परीक्षा के लिए न्यूनतम योग्यता 12वी पास होना चाहिए।

नीट में कितनी सीट है?

नीट परीक्षा एमबीबीएस पाठ्यक्रम के अतिरिक्त बीडीएस और आयुष्मान पाठ्यकर्म के लिए स्टूडेंट क्वालीफाई करते है। जो स्टूडेंट को पहले निर्धारित करना होता है। और इन सभी पाठ्यकर्मो के लिए अलग अलग सीट निर्धारित की जाती है। और यह सीटे मेडिकल कॉलेज बढ़ने पर बढ़ती भी है।

अगर एमबीबीएस पाठ्यकर्म के सीट की बात करे। तो पुरे भारत में सरकारी, प्राइवेट, मेडिकल कॉलेज की कुल सं० 532 है। और कुल एमबीबीएस पाठ्यकर्म की 76,928 सीटे है। इसके अतिरिक्त AIIMS और JIPMER के 17 मेडिकल कॉलेज और इन कॉलेज में 1405 सीटे एमबीबीएस पाठ्यकर्म के लिए भी है।

बीडीएस पाठ्यकर्म के लिए सरकारी और प्राइवेट मेडिकल कॉलेज की सं० 313 है। और बीडीएस पाठ्यकर्म के लिए 26,773 सीटे मौजूद है। इन सीटों पर नीट क्वालीफाई करके स्टूडेंट प्रवेश पा सकते है।

नीट में सिलेक्शन के लिए कितने मार्क्स चाहिए?

नीट परीक्षा क्वालीफाई करके प्रसिद्ध कॉलेज में प्रवेश पाने के लिए पहले से कोई तय मार्क्स नहीं है। यह नीट के कटऑफ पर निर्भर करता है। जोकि हर वर्ष घटता और बढ़ता रहता है। इसलिए इस प्रश्न का निर्धारित उत्तर देना मुश्किल है। यह हर वर्ष के कटऑफ पर निर्भर करता है।

इसके लिए पहले स्टूडेंट को परीक्षा में बैठना होगा। उसके बाद अधिक से अधिक मार्क्स स्कोर करने का प्रयास करना होगा। परीक्षा रिजल्ट आने के बाद पता चलेगा की कटऑफ कितना गया है। कितने मार्क्स पर कौन कॉलेज मिलेगा।

अधिक जानकारी के लिए लेख पढ़े :- नीट में पास होने के लिए कितने नंबर चाहिए?

यूपी में कितने मेडिकल कॉलेज हैं?

उत्तर प्रदेश में मेडिकल कॉलेज के संख्या की बात करे। तो यूपी में 28 मेडिकल कॉलेज है। इन मेडिकल कॉलेज में नीट क्वालीफाई करके विद्यार्थी प्रवेश ले सकते है। बिना नीट परीक्षा उत्तीर्ण किये हुए उम्मीदवार को मेडिकल कॉलेज में प्रवेश नहीं मिल पायेगा।

आशा करते है। मेरे द्वारा शेयर किया गया जानकारी आपको पसंद आया होगा। इस लेख में मैंने आपको बताया कि नीट एग्जाम कितनी बार दे सकते हैं नीट में कितनी सीट होती है और नीट परीक्षा से जुड़े कई अन्य महत्वपूर्ण प्रश्नो के उत्तर मैंने इस लेख में देने का प्रयास किया है। अधिक जानकारी के लिए ब्लॉग पर नीट परीक्षा से जुड़े कई अन्य आर्टिकल भी पब्लिश किये गए है। उसे भी आप पढ़ सकते है।

यह लेख पसंद आया हो इससे सहायता मिला हो। तो इसे सोशल मीडिया पर शेयर करना न भूले ताकि और लोगो तक यह लेख पहुंच सके। अन्य प्रश्न के लिए कमेंट कर सकते है। और उसका उत्तर जान सकते है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!