जीएसटी (GST) क्या है – जीएसटी के कितने प्रकार होते है?

जीएसटी का नाम काफी चर्चा में रहता है आपने कही न कही GST का नाम ज़रूर सुना होगा लेकिन अक्सर लोगो को जीएसटी से सम्बंधित पूर्ण जानकारी नहीं होती है अगर आप भी जीएसटी की पूर्ण जानकारी जानना चाहते हो तो आप इस पोस्ट को पढ़े जीएसटी क्या है. और जीएसटी के कितने प्रकार होते है. पूर्ण जानकारी देने वाला हूँ।

हर व्यक्ति कही न कही Gst सरकार को Return करता है लेकिन कैसे देता ये नहीं पता होता है और जीएसटी कितने प्रकार से सरकार को दिया जाता है ये भी नहीं पता होता है।

कुछ समय पहले जीएसटी की जगह पर कई प्रकार के indirect टैक्स सरकार के द्वारा वसूले जाते थे लेकिन अब अप्रत्यक्ष सारे टैक्स को हटाकर जीएसटी के जरिये टैक्स वसूला जाता है।

कई लोगो को तो जीएसटी के बारे में पता होता है लेकिन उनके दिमाग IGST SGST और CGST क्या होता है इसमें कंफ्यूज रहते है आपको इस पोस्ट के माध्यम से सारे डाउट क्लियर हो जायेंगे बस आपको इस पोस्ट में दी गयी जानकारी को विस्तार से पढ़े।

जीएसटी क्या है – Gst kya hai?

gst kya hai
GST kya hai?

what is Gst in hindi. जीएसटी क्या है. जीएसटी को आप इस प्रकार से समझ सकते है ये सरकार द्वारा लगाए गया अप्रत्यक्ष कर Indirect Tax है इस कर को वस्तुओ और सेवाओं पर एक सामान लगाया जायेगा इस टैक्स को भारतीय अर्थव्यवस्था के हिस्ट्री में सबसे बड़ा टैक्स सुधार माना जाता है।

जीएसटी के भारत में शुरुआत होने की बात करे तो जीएसटी बिल को संसद में 29 मार्च 2017 में पारित किया गया था लेकिन इस की शुरुआत 1 जुलाई 2017 में की गयी थी और इसी अधिनियम के आधार पर भारत में जीएसटी की वसूली की जाती है।

भारत में पहले से चल रहे लम्बी अप्रत्यक्ष कर लिस्ट को हटाकर जीएसटी को लागु किया गया कुछ इन प्रकार के टैक्स भारत में पहले से अप्रत्यक्ष कर के रूप में थे उत्पाद कर, विक्री कर, चुंगी कर, वैट कर, सेवा कर, को हटाकर जीएसटी के माध्यम से Indirect tax की वसूली की जाती है।

अन्य पोस्ट इसे भी पढ़े

GST full form in hindi

जीएसटी का फुल फॉर्म क्या होता है. कई लोगो को पता नहीं होता है लेकिन आपको इस पार्ट में जीएसटी का पूरा नाम बताऊंगा आइये जानते है।

GST Full Form Goods And Services Tax होता है तथा इसका हिंदी अर्थ वस्तु और सेवा कर होता है जिसे हर उत्पादित वस्तु और ग्राहकों को देने वाली सेवाओं पर जीएसटी कर चार्ज किया जाता है इस कर को पुरे देश में एक सामान लागु किया जाता है।

जीएसटी से कई लोगो के व्यापर में काफी इजाफा हो सकता है क्योकि जीएसटी एकल अप्रत्यक्ष कर है जो हर ग्राहक को देना होता है इससे कर चोरी और भ्रष्ट्राचार को कम करने में बहुत आसानी हुयी है तथा कर सिस्टम में काफी हद तक सुधार हुआ है।

जीएसटी के कितने प्रकार होते है?

कई लोगो को पता नहीं होता है जीएसटी कितने प्रकार की होती है तो मैं आपको बता दू जीएसटी मुख्यता चार प्रकार की होती है इन प्रकारो के बारे में विस्तृत जानकारी देने वाला हूँ जिसे आप पढ़कर समझ सकते है।

  1. CGST
  2. SGST
  3. IGST
  4. UTGST
  • CGST क्या है?

सीजीएसटी कर पूरा नाम Central Goods And Service Tax होता है केंद्रीय वस्तु और सेवा जो भारत सरकार का जीएसटी में एक विशेष भाग होता है सीजीएसटी को इस प्रकार से समझ सकते है जब किसी एक ही राज्य में होने वाले क्रय और विक्रय पर जीएसटी चार्ज करके दो हिस्सों में बाटा जाता है।

सीजीएसटी केंद्र सरकार के द्वारा प्रदेश के अंदर सेवाओं और वस्तुओ की आपूर्ति पर लगाया जाता है जब एक प्रदेश में दो व्यक्तियों में मध्य कोई सौदा होता है तो उस पर लगने वाले जीएसटी चार्ज को दो हिस्सों में विभाजित किया जाता है जिसमे एक हिस्सा उस प्रदेश का होता जिस प्रदेश में सौदा हुआ है तथा एक हिस्सा केंद्र सरकार का होता है अब आइये एक उदाहरण के जरिये समझते है।

उदाहरण :- किसी राज्य एक में बनने वाले वस्तु और सेवा को उसी राज्य में जब इस्तेमाल किया जाये तो इन पर CGST और SGST दोनों चार्ज किया जाता है जैसे 10000 रूपये के प्रोडक्ट पर 18 प्रतिशत जीएसटी चार्ज किया जाये तो 1800 रूपये जीएसटी बन जायेगा और ग्राहक से 11800 रूपये लिए जायेंगे लेकिन उस 1800 रूपये को दो बराबर हिस्सों में बाटा जायेगा 900 रूपये केंद्र सरकार और 900 रूपये राज्य सरकार का होता है।

  • SGST क्या है?

एसजीएसटी का पूरा नाम State Goods And Service Tax यानि राज्य वस्तु और सेवा कर होता है ये हिस्सा राज्य सरकार का होता है एसजीएसटी जब किसी प्रदेश का उत्पादित वस्तु प्रदेश में खपत होता है यानि की बेचने वाला और खरीदने वाला व्यक्ति एक ही प्रदेश के रहने वाले हो तो इसमें भी CGST और SGST दोनों लगाए जाते है।

एसजीएसटी का भाग्य उतना ही होता है जितना कि सीजीएसटी कर होता है ये दोनों बराबर हिस्सों में विभाजित किये जाते है लेकिन उन पर अलग-अलग सरकार का अधिकार होता है आइये एक उदाहरण के जरिये समझने की कोशिश करते है।

उदाहरण :- एसजीएसटी का हिस्सा राज्य सरकार यानि जिस सरकार के राज्य में वस्तुओ को बनाया और बेचा जाता है उसका हिस्सा होता है जैसे 10000 रूपये के प्रोडक्ट पर 18 प्रतिशत जीएसटी चार्ज किया जाये तो 1800 रूपये बनते है लेकिन यहाँ पर 1800 रूपये में दो भाग्य किया जायेगा जिसमे एक भाग राज्य सरकार का 900 रूपये और दूसरा भाग केंद्र सरकार का 900 रूपये होता है।

  • IGST क्या है?

आईजीएसटी का पूरा नाम Integrated Goods And Services Tax और इसका हिंदी मतलब एकीकृत माल और सेवा कर होता है जब सौदा एक राज्य से दूसरे राज्य में किया जाता है तो आईजीएसटी लागु होता है जिस प्रकार से वस्तुओ और सेवाओं की अपूर्ति करने में एक दूसरे राज्य के बीच सौदा होता हो तो इन व्यापारिक सौदो पर IGST सरकार द्वारा चार्ज किया जाता है।

उदाहरण :- IGST को इस प्रकार समझये मानलीजिए उत्तर प्रदेश का बना हुआ प्रोडक्ट जब महाराष्ट्र में इतेमाल किया जाये या उत्तर प्रदेश राज्य से महाराष्ट्र राज्य के द्वारा खरीदारी हो तो इस खरीदारी पर आईजीएसटी लागु होता है केंद्र सरकार द्वारा आईजीएसटी चार्ज किया जाता है।

  • UTGST क्या है?

यूटीजीएसटी का पूरा नाम Union Territory Goods And Services Tax यानि केंद्र शासित प्रदेश का वस्तु और सेवा कर होता है जैसा की आपने ऊपर दिए स्टेट जीएसटी और सेंट्रल जीएसटी के बारे जाना है और आईजीएसटी के बारे जाना है दरअसल यूटीजीएसटी थोड़ा अलग है ये भारत के ही राज्यों में लागु होते है लेकिन यूटीजीएसटी केंद्र शासित राज्यों में लागु होता है।

उदाहरण :- केंद्र शासित प्रदेशो में होने वाले सौदों पर यूटीजीएसटी लागु होता है जिसमे SGST यानि स्टेट जीएसटी और CGST यानि सेंट्रल जीएसटी के नाम से केंद्र शासित प्रदेशो में जीएसटी वसूला जाता है।

निष्कर्ष

मुझे पूरा आशा है कि मेरे द्वारा इस पोस्ट में दी गयी जानकारी जीएसटी (GST) क्या है.और जीएसटी के कितने प्रकार होते है. इस पोस्ट से आपको सहायता मिला होगा मैं उम्मीद करता हूँ की मेरे द्वारा लिखा गया ये आर्टिकल आपके प्रॉब्लम को हल किया होगा और आपको अच्छे से समझ आया होगा।

इस बतायी गयी जानकारी में आपको कोई प्रॉब्लम या सवाल हो तो आप निचे दिए गए कमेंट बॉक्स का सहारा लेकर मुझसे सवाल पूछ सकते है जिसका जवाब मैं आपको अवश्य दूंगा अगर इस ब्लॉग से सम्बंधित कोई सुझाव देना चाहते है तो आप कांटेक्ट पेज से मुझे सम्पर्क कर सकते है।

अगर आप ऐसे जानकारी जानने या पढ़ने में चिलचस्पी रखते है तो आप इस ब्लॉग को डेली बेसेस पर रीड कर सकते है ऐसे पोस्ट की जानकारी पब्लिश होने से पहले पाने के लिए आप हमारे सोशल मीडिया प्लेटफार्म से जुड़ सकते है या टेलीग्राम चैनल को ज्वाइन कर सकते है जहा हर पोस्ट की जानकारी शेयर करता हु।

इस पोस्ट से आपको कुछ सिख मिला हो या इससे हेल्प मिला हो तो आप इस पोस्ट को अपने सोशल मीडिया या दोस्तों के साथ शेयर कर सकते है अपने द्वारा किसी का प्रॉब्लम हल कर सकते हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!