15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा कौन फहराता है?

15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा कौन फहराता है, 15-august-aur-26-january-ko-jhandda-koun-fahrata-hai

15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा कौन फहराता है, 26 जनवरी और 15 अगस्त में क्या अंतर है,  26 जनवरी को झंडा कितने बजे फहराया जाता है. ऐसे कई प्रश्न लोगों के मन में होते हैं। अगर आपके मन में भी ऐसे कई प्रश्न है। तो यह लेख आपके लिए काफी लाभकारी होगा। यहां पर हम आपको स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस से जुड़े कुछ अहम जानकारी से रूबरू करवाएंगे।

राष्ट्रीय पर्व के तौर पर 15 अगस्त और 26 जनवरी को हम जानते हैं। इस दिन राष्ट्रीय छुट्टी भी घोषित है। स्वतंत्रता दिवस को राष्ट्रीय छुट्टी घोषित है। और गणतंत्र को भी राष्ट्रीय छुट्टी घोषित है। इसके अलावा गांधी जयंती पर राष्ट्रीय छुट्टी घोषित है। यह भारत के 3 राष्ट्रीय आवास घोषित दिन है।

15 August और 26 January को देश के अलग-अलग विद्यालय और कार्यालय में अलग-अलग कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। और लोग धूमधाम से इस पर्व को मनाते हैं। लेकिन संबंधित कई जानकारियां लोग को नहीं होती है उसी से हम आपको रूबरू करवाएंगे।

हमारा देश “15 August 1947” को आजाद हुआ। उसके लगभग 3 साल बाद हमारे देश में संविधान लागू हुआ। यह 2 दिन हमारे देश के लिए काफी अहम दिन है। इसीलिए आज हम लोग इन दो दिनों को राष्ट्रीय पर्व के तौर पर जानते हैं और धूमधाम से इस पर्व को मनाते हैं।

15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा कौन फहराता है?

15 अगस्त 1947 को हमारा देश आजाद हुआ था। इसे हम स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के रूप में जानते हैं। यह एक हमारे देश का राष्ट्रीय पर्व है। स्वतंत्रता दिवस पर जब राष्ट्रीय ध्वज को फहराया जाता है। तो उसे ध्वजारोहण कहते हैं। स्वतंत्रता दिवस का कार्यक्रम लाल किले पर आयोजित किया जाता है। और इस दिन प्रधानमंत्री के द्वारा ध्वजारोहण किया जाता है। यानी राष्ट्रीय ध्वज को फहराया जाता है।

26 जनवरी 1950 को हमारे देश का संविधान लागू हुआ था। 26 जनवरी का दिन हमारे देश के लिए एक राष्ट्रीय पर्व के रूप में है। इस दिन की राष्ट्रिय छुट्टी घोषित है। 26 जनवरी 1950 को हमारे देश में पूरी तरह से संविधान लागू हुआ था। और गणत्रंत दिवस पर कार्यक्रम को हर वर्ष राजपथ पर आयोजित किया जाता है। और इस दिन राष्ट्रपति के द्वारा राष्ट्रीय ध्वज को फहराया जाता है।

लेकिन ध्वज को फहराने के लिए कुछ नियम भी है। राष्ट्रीय ध्वज संहिता 2002 में कहा गया है। किसी भी व्यक्ति के द्वारा ध्वज फहराया जा सकता है। जैसे सार्वजनिक स्थान, शैक्षिक संस्थान, निधि संगठन, पर कोई भी सदस्य ध्वज फहरा सकता है।

अक्सर हम लोगों ने देखा है। विद्यालय या कार्यालय में और सार्वजनिक संस्थानों पर ध्वजारोहण सम्मानित सदस्यों के द्वारा किया जाता है। इस तरह से राष्ट्रीय ध्वज को 26 जनवरी और 15 अगस्त पर फहराया जाता है। और राष्ट्रीय ध्वज को किसी भी सदस्य के द्वारा फहराया जा सकता है।

26 जनवरी को झंडा कितने बजे फहराया जाता है?

गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता को हमारे देश में झंडा फहराया जाता है। लेकिन कितने बजे फहराया जाता है। झंडा फहराने का समय सूर्योदय से सूर्यास्त तक होता है। अधिकतर बार आपने 7:30 से लेकर 8:00 के बीच में झंडा फहराते हुए देखा होगा और सुना होगा।

अधिकतर संस्थानों पर चाहे विद्यालय हो, कार्यालय हो, संगठन हो, यहां पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है। वहां पर सुबह सूर्योदय के बाद झंडा फहराया जाता है। लेकिन सूर्याप्त से ध्वज को फहराया जा सकता है।

और जाने-

15 अगस्त को झंडा कौन फहराता है?

15 अगस्त का कार्यक्रम लाल किले पर आयोजित किया जाता है। और स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री के द्वारा लाल किले पर झंडा फहराया जाता है।

लेकिन आपको यह मालूम होना चाहिए। कि किसी भी सदस्य के द्वारा निजी संस्थानों, शैक्षणिक संस्थानों, विद्यालय, में और कार्यालय में अलग-अलग सदस्य के द्वारा ध्वजारोहण किया जा सकता है। और लोगों के द्वारा ध्वज को फहराया जा सकता है। कई बार सम्मानित लोगों को बुलाकर ध्वज को फहराया जाता है।

26 जनवरी और 15 अगस्त में क्या अंतर है?

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) को हमारा देश आजाद हुआ था। काफी कठिन परिश्रम से हमारा देश 15 अगस्त 1947 को पूरी तरह से आजाद हुआ। लेकिन तब भारत में संविधान लागू नहीं था।

26 जनवरी 1950 को हमारे देश का संविधान लागू हुआ था। संविधान 26 नवंबर 1949 को पूरी तरह से तैयार हुआ। और उसे 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया।

इसलिए आज हमारे देश में 15 अगस्त और 26 जनवरी को एक पर्व के तौर पर धूमधाम से मनाया जाता है। और जहा पर भारतीय मौजूद है। वहां पर भी स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस सेलिब्रेट किया जाता है।

ध्वजारोहण और ध्वज फहराने में क्या अंतर है?

स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज को जब फहराया जाता है। तो उसे “ध्वजारोहण” कहते हैं। वहीं पर जब गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय ध्वज को जब फहराया जाता है। तो उसे “फहराना” कहते हैं।

स्वतंत्र दिवस पर भारत के प्रधानमंत्री के द्वारा लाल किले पर राष्ट्रीय ध्वज का ध्वजारोहण किया जाता है। वहीं पर 26 जनवरी यानी गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रपति के द्वारा राज्यपथ पर झंडा फहराया जाता है।

15 अगस्त को ध्वजारोहण किया जाता है। और 26 जनवरी को ध्वज को फहराया जाता है। इस तरह से अंतर समझ सकते हैं।

अंतिम शब्द

आशा करते हैं। लेख में दी गई जानकारी से आपको हेल्प मिला होगा। यहां पर हमने “15 अगस्त और 26 जनवरी को झंडा कौन फहराता है” इस विषय पर सम्पूर्ण जानकारी देने का प्रयास किया है। इसके अलावा स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस की संबंधित जानकारी जोड़ा गया है। ऐसी जानकारी वाले आर्टिकल हमारे ब्लॉग पर पहले से पब्लिश है उसे भी पढ़ें और अधिक जानकारी प्राप्त करें।

यदि इस लेख से जुड़ा आपका किस प्रकार का कोई प्रश्न है। जिसका उत्तर जानना चाहते है। उसे कमेंट से मेंशन करके पूछ सकते हैं। आपके प्रश्न का उत्तर अवश्य दिया जाएगा। और जानकारी के लिए ब्लॉग के होम पर जाये।

होम पेज पर जायेwww.catchit.in

Leave a Comment

error: Content is protected !!