बैंक क्या है बैंक तथा खातों प्रकार

बैंक क्या है बैंक तथा खातों प्रकार 

भारत में विभिन्न प्रकार के लोग रहते है सभी की आर्थिक स्थिति अलग अलग होती है इसी स्थिति को देखते हुए बैंक खाते को बनाया गया भारत में बैंक का इतिहास दो सौ वर्ष पुराना है देश में विभिन्न प्रकार के लोग विभिन्न प्रकार से रहते है जिनकी विभिन्न प्रकार की आय होती है उन्ही को देखते हुए बैंक खातों का निर्माण किया गया 

बैंक क्या है Bank in Hindi 

बैंक एक वो संस्था है जो अपने ग्राहकों का पैसे सुरक्षित करने का काम करती है तथा ग्राहकों को उधार पैसे देना उनका पैसा अपने पास सुरक्षित रखना काम होता है बैंक ऐसी संस्था है 
bank kya hai-bank ke prakar
Bank Hindi
जो अपने ग्राहकों को धन से सम्बंधित लेन देन के समस्त कार्य करती है हर किसी को बैंक की जरूरत होती है क्योंकि आज के समय में हर किसी को  पैसा सेव करना ही होता है इस लिए लगभग लोगो का अकाउंट बैंक में होता है 

बैंक में खाते कितने प्रकार के होते है

1. चालू खाता Current Account-बड़े बड़े व्यापारी स्कूल या संसथान इत्यादी ऐसे लोग जिन्हे रोज अपने खाते से पैसे जमा तथा निकलना डालना होता है ऐसे लोग चालु खातों का प्रयोग करते है चूँकि बचत खाते में अनगिनत बैंक जमा स्वीकार करता है मगर अनगिनत निकासी नहीं कर सकते अतः ऐसे लोग चालू खाता खोलवाना अधिक पसंद करते है
चालू खाता वो खाता होता है जिसमें  जब चाहे तब अपनी जमा की हुई राशी को निकल सकते है या डाल  सकते है इसे अधिकतर व्यापारी या ऊद्योग कर्मी खुलाते है जिसे अधिकतर या रोज रोज निकलना डालना होता है ऐसे  लोग एक दिन में लाखो रूपीस का ट्रांसक्शन करते रहते है ऐसे लोग चालू खाता खोलवाते है चालू खाता में धारक को कोई व्याज (Interest) नहीं मिलता है तथा खूबी ये है कि इसमें कितना डाला अथवा  निकाला जा सकता है  

2. बचत खाता Saving Account-इसे किसी भी बैंक में बहुत न्यूनतम राशि देके खोलवाया जा सकता है। तथा हर बैंक की ये न्यूनतम राशि अलग अलग होती ये अधितर बैंक 1000 से 3000 तक होती है इस प्रकार के बैंक खातों से अपनी जमा कभी भी निकाला अथवा डाला जा सकता है ऐसे खातों से अपनी  जमा निकालने के लिए खाताधारक के पास बैंक निकासी फॉर्म (Withdrawal form) चेक (Cheque) जारी करके या ए०टी०एम० (ATM ) का प्रयोग करके अपनी निकासी स्वीकार कर सकता है


जिसके नाम से ही स्पष्ट है सात्विक अकाउंट सेविंग करने के लिए बनी है हम आप जैसे लोग चाहते है कि हर बार कुछ कुछ अमाउंट डालकर कर सेव रखे इस लिए ज्यादातर लोग सेविंग अकाउंट खुलवाना पसंद करते है तथा इसमें व्याज (Interest) अधिक मिलता है और कम से कम पैसे अपने अकाउंट में जमा एवं निकाले सा सकते है जितना ज्यादा जमा होगा उतना ही अच्छा रहेगा कोई भी व्यक्ति चाहे वो सरकारी कर्मचारी हो या निजी कर्मचारी हो या छात्र हो या कोई भी व्यक्ति अपना खाता खोलवा सकता है तथा इसमें ब्याज (Interest) अधिक मिलता है बचत खाता में कभी भी बैंक में अपनी राशि को डालने में कोई बाध्यता (Restriction) नहीं होती है  परन्तु निकासी करने के लिए कुछ  बाध्यता (Restriction) होती है जैसे आप 50 रुपीस से कम बैंक से नहीं निकल सकते हो तथा ATM से जितना मर्जी आप पैसे को निकल सकते है तथा इसमें न्युनतम राशि से अधिक पैसे निकलने पर बैंक ब्याज  (Interest) काटता है। 

इससे भी पढ़े.
1. इंटरनेट बैंकिंग क्या है कैसे काम करता है
2. Kotak 811 में जीरो बैलेंस से अकाउंट कैसे खोले
3NEFT क्या होता है NEFT से पैसे कैसे भेजे

3. आवर्ती जमा खाता Recurring Deposit Account-आवर्ती जमा खाता में वे लोग खता खोलवाते है जो एक निश्चित समय में निश्चित धन जमा कर सके तथा उनको ब्याज भी अधिक मिलता है ब्याज जमा करने के आधार पर घट या बढ़ सकता है जैसे 10000 रूपीस  प्रति माह जमा करने  वाले अधिक ब्याज तथा उसी प्रकार 5000  रूपीस प्रति माह जमा करने वाले कम ब्याज मिलेगा। 

इसे निश्चित राशी पाने वाले व्यक्ति को माह जमा करने वाले खुलवाते है जो प्रति जमा राशि पे ब्याज समय पुरा होने पर साथ में निकाल सके जैसे 1 या 2 साल तक का खाता है तो अवधी पूरी होने के बाद ब्याज सहित राशि मिलती तथा ऐसी के साथ खाते को भी बंद किया जाता है। 

4 सावधि जमा खाता Fixed deposit Account-सावधि जमा खता में वे लोग खता खोलते है जो लोगो को एक बार में पैसे निकलने या डालने होते है इसमें भी आवर्ती जमा खाते की तरह ही एक अवधि समाप्त होने के बाद ही अपनी जमा को निकाल सकते है अवधी समाप्त होने के पूर्व निकलने पे इंट्रेस्ट चार्ज होगा तथा एक बार अमाउंट से निकल लेने के बाद खाते को बंद कर दिया जाता है  

बैंको के प्रकार Types of Banks 

  1. व्यापारिक बैंक (Commercial Bank)
  2. कृषि सहकारी बैंक (Agriculture Cooperative Bank)
  3. औद्योगिक बैंक (Industrial Bank)
  4. भूमि विकास बैंक (Land Development Bank)
  5. क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक (Regional Rural Bank)
  6. देशी बैंकर (Indigenous Bank)
  7. केंद्रीय बैंक (Central Bank)
  8. विदेशी विनिमय बैंक (Foreign Exchange Bank)
नोट:- मै उम्मीद करता हु कि आपको इस बैंक क्या है बैंक तथा खातों प्रकार  पोस्ट से बहुत हेल्प मिली होगी और Bank से सम्बंधित सारे प्रॉब्लम दूर हो गये होंगे तथा टेक्नॉलॉजी एजुकेशन और बैंकिंग सिस्टम से  सम्बंधित जानकारी मै लाता रहता हु ऐसे ज्ञानी पोस्ट को पढ़ने के लिए हमारे फेसबुक और इंस्टाग्राम के पेज को लाइक और फॉलो करे और सबसे पहले जानकारी पाये और आर्टिकल को शेयर करे।  
(धन्यवाद्) 

Demand Draft DD क्या है कैसे बनवाये

DD क्या है कैसे बनवाये की पूर्ण जानकारी 

अभी के समय में एक दूसरे को पेमेंट करना बहुत आसान हो गया है लेकिन कुछ समय पहले पेमेंट करने के कुछ ही मेथड थे जिससे लोग एक स्थान से दूसरे स्थान पैसे को भेज पाते थे तथा अब तो किसी को पेमेंट करना बहुत आसान हो गया है तथा अब लोग RTGS, NEFT के माधयम से अपने पैसे को सेंड करते और तो और नेटबैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग से पैसे भेजने इतना आसान हो गया कि किसी को अब बैंक जाने की जरूरत नहीं पड़ती है 
dd kya hai hindi-what is dd hindi
Demand Draft hindi 
Demand Draft अभी बहुत भी ज़रूरत पड़ती है क्योकि बहुत सारी संस्थाओ में DD की आवश्यकता पड़ती है कालेजों में फीस के लिए Dd की बहुत जरुरत पड़ती है  

DD क्या होता है Dd in hindi 


Demand draft जिसे dd भी कहते है online भुक्तान करने की बात आती है तो चेक इंटरनेट ऑनलाइन भुक्तान आदि दिमाग में आता है मगर एक ऐसा माध्यम है जिसे DD कहते है किसी भी बैंक खाते में पैसे ट्रंसफर करने का सबसे पुराना व सुरक्षित माध्यम है आज कल ऑनलाइन(Online) भुक्तान करने के लिए RTGS, NEFT तथा मोबाइल का प्रयाग करने लगे है मगर फिर भी बहुत सी ऐसी सरकारी संस्थान है जहा पे dd का प्रयोग किया जाता है डिमांड ड्राफ्ट से पैसे भेजने तथा  रिसीव करने में कोई धोखा या गलत काम नहीं होता है इसलिए सभी सरकारी संसथान या कार्यालय डिमांड ड्राफ्ट Demand Draft का प्रयोग करते है। 

DD एक कागज का टुकड़ा होता है इसे बनवाने के लिए हमे एक बैंक अकाउंट आवश्यकता होती है Dd बैंक द्वारा ही बनाया जाता है 

DD कैसे बनता है 


डिमांड ड्राफ्ट एक चेक Cheque की ही तरह कागज का टुकड़ा होता है। डिमांड ड्राफ्ट बनवाने के लिए बैंक में जाकर एक फॉर्म लेना होता है जिसे बैंक ड्राफ्ट फॉर्म कहते है उस फॉर्म को भरने  के कुछ देर बाद  बैंक आपको उस ड्राफ्ट को प्रिंट करके दे देता है। Dd फॉर्म में आपको जिस व्यक्ति या संस्था के नाम भुक्तानं करना है उसका नाम तथा कितने रूपए भुक्तान करना है लिखना होता है जितने रूपये का DD बनवाना होता है उतना पैसा अकाउंट होना जरूरी है तथा जितने रूपये का DD बनता उतना पैसा बैंक अपने कुछ चार्ज को जोड़ काट लेता है और DD बनाकर कस्टमर को दे देता है अब उसक वो कही भी यूज़ कर सकता है  
dd kya hai hindi-what is dd hindi
Demand Draft hindi 
बैंक से ड्राफ्ट बनवाने के लिए आपको बैंक कमीशन भी लेता है वो आप कितने का ड्राफ्ट बनवाते इस पर निर्भर करता है हर अपना अपना कुछ चार्जेज ऐड कर लेता है जितने रूपये का DD बनता उतना तो ले ही लेता है लेकिन बैंक कुछ अपना चार्ज भी जोड़ लेता है  

Demand Draft कैसे काम करता है 


आपके पास बैंक खाता है या नहीं इन दोनों परिस्तिथियों में आप बैंक ड्राफ्ट बनवा सकते है डिमांड ड्राफ्ट की राशि को बैंक में नकद या अपने खाते के साथं जमा करनी होती है इसमें बैंक खाता धारी का नाम होता है जिसे धनराशि जमा करनी तथा धन होता है जितना धन देना होता है और जमाकर्त्ता के हस्ताक्षण होते है 

Demand Draft का उपयोग 

Demand ड्राफ्ट का उपयोग वे लोग करते है जो कॉलेज की फीस ,वेतन ,सरकार को भुक्तान करने के लिए या किसी ऐसे व्यक्ति के लिए जिसपे भरोसा ना हो इन सभी जगह बैंक ड्रॉफ्ट का अधिक उपयोग होता है ऐसे फ्रॉड होने के शुन्य प्रतिशत चांस होते  लिए DD अभी तक इतना पॉपुलर है  

बैंक ड्राफ्ट की सिक्योरिटी तथा वैलिडिटी 


बैंक ड्राफ्ट की वैलिडिटी 6 माह की होती है अतः वैलिड होने के 6 माह तक उसे भुना लिया जाए अन्यथा वो बाउंस हो जायेगा और बैंक ड्राफ्ट के नीचे कुछ नंबर लिखे होते है जिन्हे Dd नंबर कहते है नंबर जमा करता को जमा करते वक्त लिख लेना चाहिए उसके बाद उस यूज़ नहीं कर सकते तथा फिर से बैंक जाकर बनवाना पद सकता है इससे बेहतर ये कि जब DD की आवश्यकता हो तभी बनवाया और काम आ सके। 


नोट:- मै उम्मीद करता हु कि आपको इस Demand Draft DD क्या है कैसे बनवाये पोस्ट से बहुत हेल्प मिली होगी और Demand Draft से सम्बंधित सारे प्रॉब्लम दूर हो गये होंगे तथा टेक्नॉलॉजी एजुकेशन और बैंकिंग सिस्टम से  सम्बंधित जानकारी मै लाता रहता हु ऐसे ज्ञानी पोस्ट को पढ़ने के लिए हमारे फेसबुक और इंस्टाग्राम के पेज को लाइक और फॉलो करे और सबसे पहले जानकारी पाये और आर्टिकल को शेयर करे।  
(धन्यवाद्)

BCA क्या है और कैसे करे

BCA  क्या है और कैसे करे।

बहुत तेजी से शिक्षा जगत में बढोत्तरी होती जा रही है इसी लिए कई लोगो को समझ ही नहीं आता है कि क्या करे कुछ लोग अपना करियर पहले सेट किये होते है कि हम डॉक्टर (Doctor) इंजीनियर (Engineer) या मैनेजमेंट (Management) फील्ड चुने होते है बहुत लोगो का कोई लक्ष्य नहीं होता है कि हमे करना क्या चाहिए तथा वो किसी को देखकर या किसी के कहने पर गलत कदम उठा लेते है तो ऐसे लोग कही न कही फ़ैल हो जाते है क्योकि वो उस चीज का चुनाव नहीं कर पाये जो चाहिए था तो आपको जिस में इंटरेस्ट (Interest) हो जो आपको अच्छा लगे वही करना चाहिए क्योकि आपको आपसे अच्छा कोई नहीं समझ पायेगा तथा आप वही करे जिससे आप संतुष्ट हो।
bca kya hai kaise kre-bca me sikhaya jata hai
BCA-Hindi 
BCA कोर्स की बात करेंगे ये एक टेक्निकल (Technical) कोर्स है इसे कोई भी कर सकता है ये कोर्स 12th के बाद में कर पायेंगे क्योंकि BCA एक ग्रेजुएशन डिग्री है 12th आप किसी भी फील्ड से किये आप BCA कर सकते है तो आज हम लोग BCA के बारे जानेगे बहुत ही आसान भाषा में BCA कोर्स होता क्या है तथा इस कोर्स को पूरा कैसे करे और BCA की फीस कितना तथा कोर्स कितने दिनों का होता है


BCA क्या है BCA in  Hindi

BCA की बात करे तो ये के प्रोफेशनल डिग्री कोर्स (Professional Degree Course) है इसका पूरा नाम बैचलर आफ कंप्यूटर एप्लीकेशन (Bachelor of Computer Application) है ये एक ग्रेजुएशन डिग्री के तौर पर काम करता है तथा ये एक टेक्निकल कोर्स है इसको कंप्यूटर एप्लीकेशन (Computer Application) और कंप्यूटर साइंस (Computer Science)  बारे में पढ़ाया जाता है इसको करने के लिए आप 12th में 45% मार्क से पास होना अनिवार्य होता है ये पूरा 3 साल का कोर्स होता है 

BCA में कंप्यूटर से सम्बंधित सारी चीजों को सिखाया जाता है कि ये आगे जाकर कंप्यूटर या आईटी (IT) फील्ड में काम कर सके इस कोर्स को करने के बाद कंप्यूटर का लगभग पूर्ण जानकारी हो जाता है तथा कंप्यूटर फील्ड कोई भी काम आसानी से कर सकता है BCA कोर्स पूरा हो जाने के बाद कई सारी चीजों का ज्ञान हो जाता है जैसे कि सॉफ्टवेयर किस तरीके से बनता है तथा आप एक सॉफ्टवेयर कैसे बना सकते है तथा BCA  कोर्स पूरा होने के बाद एक अच्छे सॉफ्टवेयर इंजीनियर (Engineer) की जॉब भी कर सकते है इस कोर्स के  बाद आप MCA कोर्स भी कर सकते है

इससे भी पढ़े.
1. टॉप 5 एकाउंटिंग कोर्सेज जिसको करके आप अकाउंटेंट बन सकते हो
2. PGDM कोर्स क्या है और कैसे करे पूरी जानकारी
3. एमबीए कोर्स कैसे करे पूर्ण जानकारी 


BCA कैसे करे 

इस कोर्स को करने के लिये 10th और 12th पास होना जरूरी है 12th आप किसी भी मीडियम तथा किसी भी विषय से पास होने चाहिए ये मैटर नहीं करता है लेकिन जो अगर आप 12th मैथ या कॉमर्स से पास हो तो आपको इससे बहुत सारी हेल्प मिलती है अन्थया आप किसी विषय से पास 12th में आप इस कोर्स को कर सकते है ये एक प्रोफेशनल डिग्री कोर्स है इसको करने के लिए आपको 12th पास होना अनिवार्य है ये कोर्स 3 साल और 6 सेमेस्टर में विभाजित होता है इस कोर्स को किसी अच्छे कालेज से रेगुलर में करना जरूरी होता है अन्थया इस कोर्स डिस्टेंस से करने का कोई मतलब नहीं होता है 

Qualification क्या होना चाहिए

BCA करने के लिए आप 12th पास होना जरूरी है किसी भी विषय से इंटरमीडिएट 45% से 55% मार्क हो होना अनिवार्य है किसी भी कालेज में एड्मिशन के लिए लेकिन कुछ कालेज में 60% भी मांगा जाता है BCA में एड्मिशन के लिए ये सारे Qualification होना चाहिए। 

BCA की फीस क्या है 

इस कोर्स की फीस की बी बात की जाये तो बहुत सारे कालेज है जिनकी फीस बहुत ही ज्यादा होती है लेकिन कुछ नार्मल कालेज यानि न ज्यादा हाई लेबल है न ही लोअर लेबल पर उसकी फीस लगभग 30 हजार से 50 हजर प्रति सेमेस्टर होती है तथा फीस प्रति वर्ष घटती बढ़ती रह है तो जिस भी कालेज में एडमिशन लेना चाहते हो उस का फीस पहले जरूर पता कर ले।  

BCA में क्या सिखाया जाता है

इस कोर्स के स्टूडेंट्स (Students) को क्या सिखाया तथा क्या पढ़ाया जाता है ऐसे कोर्सेज में स्टूडेंट्स को सारी टेक्निकल चीजों को सिखाया जाता है आइये जानते है।
bca kya hai kaise kre-bca me sikhaya jata hai
BCA-Hindi 
  1. सॉफ्टवेयर (Software)-BCA कोर्स में सॉफ्टवेयर के बारे में पूर्ण रूप से ज्ञान दी जाती है एक अच्छा और रेस्पॉन्सिव सॉफ्टवेयर को डेवलोप या कैसे बनाया जाता है तथा उस सॉफ्टवेयर कैसे मैनेज करना है बहुत अच्छे तरीके से BCA कोर्स में सिखाया जाता है 
  2. कंप्यूटर नेटवर्क (Computer Network)-इस कोर्स में कंप्यूटर नेटवर्क को बहुत अच्छे से पढ़ाया जाता है कंप्यूटर नेटवर्क क्या है जब एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर से कैसे जोड़ा जाये तथा एक कंप्यूटर सिस्टम से प्रिंटर सी०पी०यू० मॉनिटर प्रोजेक्टर तथा कीबोर्ड माउस जैसे बहुत सारी डिवाइस को जब जोड़ा जाता है जहा कंप्यूटर से कुछ डिवाइस को कनेक्ट किया जाता है उसे कंप्यूटर नेटवर्क कहते है 
  3. वेब डिज़ाइन (Web Design)-इस कोर्स का एक बड़ा हिस्सा वेब डिज़ाइन का होता है वेब डिज़ाइन क्या होता है वेब डिज़ाइन में स्टूडेंट्स को वेबसाइट तथा एप्लीकेशन को बनाना सिखाया जाता है जैसे एक प्रोफेसनल वेबसाइट कैसे बनाया तथा मैनेज किया जाता है एप्लीकेशन के बारे भी अच्छी जानकारी दी जाती है तथा इस कोर्स में वेबसाइट मेकिंग के सारे टूल्स को सीखते है एक प्रकार इस कोर्स को करने के बाद अच्छे वेब डेवलपर बन सकते है
  4. कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज (Computer Programming Language)-इस कोर्स में कंप्यूटर के प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को पढ़ाया जाता है C language, C++, Java, VB, Foxpro, Sql, Net, Xml, जैसे कंप्यूटर लैंग्वेज के बारे सिखाया जाता है  
  5. कंप्यूटर बेसिक (Computer Basic)-इस कोर्स में कंप्यूटर से सम्बंधित छोटी बड़ी जानकारीयो को सिखाया तथा पढ़ाया जाता है जैसे कंप्यूटर फंडामेंटल तथा कंप्यूटर कैसे एक्सेस करना ये सारी चीजे कंप्यूटर बेसिक में आ जाती है और एक BCA स्टूडेंट्स को कंप्यूटर के फील्ड में बेहतर ज्ञान हो जाता है 
नोट:- मै उम्मीद करता हु कि आपको इस BCA क्या है और कैसे करे पोस्ट से बहुत हेल्प मिली होगी और BCA से सम्बंधित सारे प्रॉब्लम दूर हो गये होंगे तथा टेक्नॉलॉजी एजुकेशन और बैंकिंग सिस्टम सी सम्बंधित जानकारी मै लाता रहता हु ऐसे ज्ञानी पोस्ट को पढ़ने के लिए हमारे फेसबुक और इंस्टाग्राम के पेज को लाइक और फॉलो करे और सबसे पहले जानकारी पाये और आर्टिकल को शेयर करे | 
(धन्यवाद्)

NEFT क्या होता है NEFT से पैसे कैसे भेजे

NEFT क्या होता है NEFT से पैसे कैसे भेजे और कितना चार्ज लगता है-हिंदी में 

ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर (Transfer) करना तो लगभग लोगो को पता होगा लेकिन ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करने के लिए NEFT ज्यादातर लोग उपयोग करते है आज हम आसान भाषा में जानेगे NEFT क्या होता है और NEFT  कैसे काम करता है तथा पैसे भेजने का कितना चार्ज NEFT में लगता है और NEFT के फायदे और नुकसान इस आर्टिकल के माध्यम से आप तक पंहुचा रहे है आज के समय में किसी के पास टाइम नहीं और कोई व्यक्ति अपने काम को आसान बनाना चाहता है घर या अपने ऑफिस में बैठे अपने कामो को करना चाहता है 
NEFT क्या होता है-NEFT से पैसे कैसे भेजे
NEFT in Hindi 
NEFT से कोई भीं अपने पैसे को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पंहुचा सकता है NEFT एक पैसे भेजने का बहुत ही अच्छा जरिया है तथा बड़े आसानी से एन०ई०ऍफ़०टी० में माध्यम से किसी को कही भी पैसे भेजा जा सकता है NEFT बहुत ही कम समय में पैसे को ट्रांसफर (Transfer) कर देता है NEFT को यूज़ करना बहुत आसान और सिंपल है कोई भी इसको यूज़ कर सकता है NEFT की सुविधा लेने के लिए आपको कुछ चार्ज देना होता है इस चार्ज को जानेगे कि कितने पैसे में कितना चार्ज लगता है


एनईऍफ़टी क्या है-NEFT in Hindi

ये एक पैसे ट्रांसफर करने के माध्यम है NEFT का पूरा नाम (National Electronic Fund Transfer) हिंदी में राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक फण्ड ट्रांसफर होता है इसको November 2005 बनाया गया था इससे देश के किसी कोने में NEFT के माध्यम से अपने पैसे को ट्रांसफर कर सकते है NEFT का टाइमिंग (Time) सुबह 7 से शाम 7 बजे तक रहता है NEFT से पैसे भेजने में 3 से 4 घंटे का टाइम लग जाता है इसको बैंक से या ऑनलाइन नेटबैंकिंग के माध्यम किया जा सकता है तथा NEFT से एक दिन में 1 रूपये से 25 लाख रूपये तक ही ट्रांसफर (Transfer) किया जा सकता है इंडिया में कोई बैंक किसी भी बैंक ब्रांच में NEFT के माध्यम से पैसे को भेज सकता है


NEFT चार्जेज क्या होता है NEFT Charges 

अगर NEFT की चार्ज की बात करे तो बैंक अपनी सुविधा देने के लिए कुछ अपना चार्ज जोड़ लेता है इसी को NEFT चार्जेज कहते है ये चार्ज हर किसी को देना होता है ये चार्ज बैंक अपने पास रख लेता है तथा अपनी सर्विस के माध्यम से पैसे को ट्रांसफर कर देता है

इससे भी पढ़े.
1. इंटरनेट बैंकिंग क्या है पूर्ण जानकारी
2. डेबिट कार्ड Debit Card और क्रेडिट कार्ड Credit Card मे अन्तर क्या अन्तर होता है

निचे दिए गए चार्ट में आप देख सकते है कि कितना चार्ज लगता है 
Transaction Amount
NEFT Charges 
रूपये से 10000 तक 
Rs 2.5 + (GST)  
10000 रूपये से 100,000 तक 
Rs 5 + (GST)  
100,000 रूपये से 200,000 तक 
Rs 15 + (GST)  
200,000 रूपये से 25,00,000 तक 
Rs 25 + (GST)  



नोट:- अगर चार्जेज की बात करे तो ये बदलते रहते है ज्यादा नहीं बस कुछ पैसे ही बदलते है लेकिन जब भी यूज़ करे तो अपने बैंक से NEFT के चार्ज पता करले तभी पैसे ट्रांसफर करे।  


NEFT से पैसे कैसे भेजे  

पैसे ट्रांसफर करने के लिए आपका किसी बैंक में अकाउंट होना चाहिए तथा जिसको भेजना हो उसके पास भी बैंक अकाउंट होना आवश्यक है तभी NEFT किया जा सकता है अन्यथा नहीं किया जा सकता है NEFT करने के दो माध्यम होते है एक तो अपने बैंक के ब्रांच से जाकर ऑफलाइन कर सकते है तथा दूसरा आप नेटबैंकिंग के माध्यम से कर सकते है 

1. ऑनलाइन मेथड (Online Method)-जिस व्यक्ति को पैसे भेजा जाना है उसको बेनिफिसरी में जोड़ना होता है उसके बाद बेनिफिसरी बैंक डिटेल्स (Details) पता होना चाहिए जैसे उसका पूरा नाम बैंक अकाउंट नंबर और IFSC Code तभी आप पैसे को ट्रांसफर कर सकते है जब आपके नेटबैंकिंग बेनिफिसरी एक बार ऐड हो जायेगा तो आप उसको कभी भी पैसे भेज सकते है 

2. ऑफलाइन मेथड (Offline Method)-आपको में आपको अपने बैंक के ब्रांच जाना होगा तथा वहा आपको एक फॉर्म मिलेगा उस फॉर्म में आपको अपने बैंक डिटेल्स और आपने जिसे पैसे भेजने है उसका बैंक डिटेल्स यानि उसका पूरा नाम बैंक अकाउंट नंबर और IFSC Code और बैंक के कर्मचारी को दे देंगे कुछ ही देर में आपके पैसे को ट्रांसफर कर दिए जांयेंगे। 

NEFT के फायदे Advantage of NEFT

इसके लाभ या फायदे की बात करे तो बहुत सारे फायदे है देश डिजिटल (Digital) बन रहा है आने वाले समय में सारा सिस्टम ऑनलाइन होने वाला है 
  1. घर बैठे ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करना किसी को कही भी। 
  2. NEFT से किसी Firm Individual व Corporation Company को आसानी से पैसे ट्रांसफर किये जा सकते है 
  3. ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम से किया जा सकता है 
  4. बहुत ही कम फीस में NEFT से पैसे ट्रांसफर किये जाते है 
  5. कम समय में आसानी से मनी ट्रांसफर किया जा सकता है 
  6. NEFT के माध्यम से किसी को पैसे देना बहुत सिक्योर होता है और ये कभी भी पैसे लेकर फ्रॉड नहीं कर सकते क्योकि उस व्यक्ति का बैंक डिटेल्स होता है उसके माध्यम से उसको कभी पकड़ा जा सकता है तो NEFT से ट्रांसफर करना एक प्रकार से सुरक्षित है 
  7.  NEFT का मिनिमम (Minimum) कोई नहीं इसका बहुत बड़ा फायदा है 
  8. इसको बिज़नेस टू बिज़नेस तथा पेर्सनली भी यूज़ किया जा सकता है 


 NEFT काम कैसे करता है 

1. NEFT के कार्य की बात करे तो NEFT का पूरा कंट्रोल (Control) यानि बैंक के हाथ में होता है तथा बैंक चाहेगा आपका ट्रांसक्शन करेगा नहीं  कैंसिल कर देगा लेकिन ऐसा नहीं होता है बैंक को भी इससे कुछ प्रॉफिट (Profit) हो जाता है तो इससे बैंक बहुत आसानी से कर देता है 
NEFT क्या होता है-NEFT से पैसे कैसे भेजे
NEFT in Hindi 
2. NEFT बैंकिंग डिटेल्स पर काम करता है जिसको पैसे देना है उसका पूरा बैंक डिटेल्स होना चाहिए तभी NEFT के माध्यम से पैसे ट्रांसफर होते है ये बहुत सूझ बुझ कर काम करता है ऐसा नहीं होता किसी को ऐसे ट्रांसफर करता हो इसी लिए NEFT को सुरक्षित मन जाता है 

3. जब किसी को अकाउंट बरनिफिसरी (Beneficiary) के ऐड करते है तो उसको वेरीफाई करता है उसको वेरीफाई करने में 3 से  4 घंटे का टाइम लग जाता है जब तक बेनिफिसरी वेरीफाई नहीं होता है तब तक पैसे ट्रांसफर नहीं क्र सकते है तथा वेरीफाई होने तक इंतिजार करना होता है जैसे बेनिफिसरी एक्टिव हो  जाता है और पैसे ट्रांसफर कर सकता है 

नोट:-मै उम्मीद करता हु कि आपको इस NEFT क्या होता है NEFT से पैसे कैसे भेजे पोस्ट से आपको बहुत हेल्प मिली होगी और (NEFT) से सम्बंधित सारे प्रॉब्लम दूर हो गये होंगे और NEFT के बारे बेहतर जानकारी मिली होगी तो ऐसे पोस्ट को पढ़ने के लिए हमारे फेसबुक और इंस्टाग्राम के पेज को लाइक और फॉलो करे और सबसे पहले जानकारी पाये और आर्टिकल को शेयर करे। 
(धन्यवाद्)

Kotak 811 में जीरो बैलेंस से अकाउंट कैसे खोले।

Kotak 811 में जीरो बैलेंस से अकाउंट कैसे खोले।

बैंक में अकाउंट ओपन करवाना बहुत बड़ा काम हो गया एक तो इतना बिजी (Busy) लाइफ टाइम किसी को मिलता है और बैंक अकाउंट में ओपन करवाने के 2 से 3 दिन लगी जाता है उसके बाद बैंक के चक्कर लगा लगाकर लोग परेशान हो जाते है और बहुत सारे डॉक्यूमेंट (Documents) की जरूरत पड़ती है जो अगर किसी बैंक अकाउंट ओपन करवाना है उसी बैंक में किसी खाताधारक (Account Holder) से गवाही (Witness) के तौर पर एक सिग्नेचर करवाना आवश्यक होता है ऐसे बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है
kotak 811 me account kaise khole-kotak mahindra bank me account kaise khole hindi
Kotak Mahindra Account 
इंडिया एक डिजिटलीकरण की ओर बहुत तेजी से बढ़ता जा रहा है तो अब बैंक में लाइनों में लगने की जरूरत नहीं अब सब कुछ ऑनलाइन (Online) हो चूका है और जो अभी तक नहीं हुआ है तो कुछ दिनों में हो जायेगा और सब कुछ घर बैठे अपने फ़ोन (Phone) या लैपटॉप (Laptop) से एक्सेस (Access) कर सकते है और बैंक में अकाउंट ओपन करने की तो हर किसी व्यक्ति को जरूरत पड़ती चाहे वो एक नार्मल व्यक्ति हो या फिर एक बिज़नेस मैन हो अकाउंट ओपन करने की आवश्यकता लगभग लोगो की होती है

Kotak 811 क्या है Katak in Hindi 

इसका पूरा नाम कोटक महिंद्रा प्राइवेट बैंक (Kotak Mahindra Bank PVT) ये एक प्राइवेट सेक्टर (Private Sector) का बैंक है ये February 2003 में चालू किया गया था इसके फाउंडर Uday Kotak और इसका  हेडक्वाटर मुंबई महाराष्ट्रा इंडिया में है कोटक महिंद्रा बैंकिंग और फाइनैंशल सर्विस (Financial Service) से सम्बंधित सेवाएं देती है इस बैंक में आप अपना सेविंग अकाउंट ऑनलाइन घर बैठे खोल सकते है आपको बैंक ब्रांच जाने की जरुरत नहीं है तथा आप इस बैंक में जीरो बैलेंस (Zero Balance) में अकाउंट ओपन कर सकते है

कोटक महिंद्रा बैंक में आप अपने फ़ोन से 5 मिनट में अकाउंट खोल सकते है अकाउंट ओपन होने के बाद आपको बैंक द्वारा डेबिट कार्ड अकाउंट नंबर व नेटबैंकिंग सुविधा भी मिल जायेगा तथा अपने अकाउंट पूरी तरह से अपने फ़ोन से कंट्रोल कर सकते हो इस बैंक में अकाउंट ओपन  करना बहुत ही आसान और सिक्योर (Secure) तथा अपने सेविंग अकाउंट से 5 से 6 तक का कोटक बैंक से व्याज से ले सकते है

इससे भी पढ़े.
1ATM क्या है कैसे काम करता है पूर्ण जानकारी हिंदी में
2. सेविंग अकांउट और करेटं अकांउट मे क्या अन्तर होता है


कोटक 811 में अकाउंट कैसे ओपन करे

महिंद्रा कोटक बंक में अकाउंट ओपन करना बहुत आसान है आइये जानते है कैसे  अपना अकाउंट ओपन कर सकते है महिंद्रा कोटक बैंक का अकाउंट ऑनलाइन दो तरीको से खोला जा सकता है पहला कोटक बैंक के ऑफिसियल वेबसाइट (Official Website) पर जा ओपन कर सकते है दूसरा आपने फ़ोन में कोटक 811 का एप्लीकेशन डाउनलोड करके अपना कुछ पर्सनल डिटेल्स (Details) देकर अकाउंट ओपन करवा सकते है आज मै कोटक बैंक के एप्लीकेशन के माध्यम अकाउंट ओपन करना सीखेंगे।

1. सबसे पहले आप प्ले स्टोर से कोटक 811 (Kotak 811) का एंड्राइड एप्लीकेशन डाउनलोड करके ओपन ओपन करना होगा करने के बाद आपको दो ऑप्शन (Option) मिल जायेगा पहला Option: Get Started Now जो अगर आपका कोटक बैंक में कोई अकाउंट नहीं नया अकाउंट खोलना चाहते है तथा पहली बार अपना कोटक बैंक में अकाउंट ओपन कर रहे हो तो आप पहले ऑप्शन पर क्लिक करे जो अगर आपका अकाउंट है पहले तो आपको दूसरा Option: Click Here To Log in आपका अकाउंट से पहले से कोटक महिंद्रा बैंक में है तो दूसरे ऑप्शन पर क्लिक कर होगा।
 kotak 811 me account kaise khole-kotak mahindra bank me account kaise khole hindi Kotak Mahindra Account
Kotak Mahindra Account 
 2. नया अकाउंट खोलने के पहले Option: Get Started Now पे क्लिक करने के आपसे कुछ डिटेल्स पूछेगा आपका पूरा नाम (Your Full Name) मोबाइल नंबर (Mobile Number) व ईमेल (Email) भर देने के बाद Get पर क्लिक करे आपके मोबाइल नंबर पर एक (OTP) आयेगा उसको डालकर Next पे क्लिक करे
 kotak 811 me account kaise khole-kotak mahindra bank me account kaise khole hindi Kotak Mahindra Account
Kotak Mahindra Account 

3. उसके बाद आपको अपना आधार नंबर और पैन कार्ड का नंबर डालकर Next पे क्लिक कर दे उसके बाद आप से कुछ पेरर्सोनल डिटेल्स (Personal Details) भरने के बाद Next पे क्लिक करदे आपको नॉमिनी (Nominee) डालना होगा उसके बाद आपको Continue पे क्लिक कर देना फिर आपसे KYC के लिए पूछा जायेगा वहा अपना टाइम चूज कारने के बाद आपके घर पर कोटक के तरफ एक व्यक्ति आयेगा और आपका KYC आपके घर पे करके जायेगा जो अगर आप महिंद्रा कोटक बैंक के ब्रांच फुल KYC के लिए जाना है तो आप महिंद्रा कोटक बैंक कोई ब्रांच चूज कर लीजिये और ब्रांच विजिट करके KYC करवा लेंगे।

 kotak 811 me account kaise khole-kotak mahindra bank me account kaise khole hindi Kotak Mahindra Account
kotak Mahindra Account 
4. उसके बाद आपको नेटबैंकिग के लिए पासवर्ड चूज कर लेंगे फिर एक (M pin) बनाना होगा ये सब कुछ करने के आपका अकाउंट ओपन हो चूका है और आप इस अकाउंट से ट्रांसेक्शन कर सकते है

कोटक 811 बैंक के फायदे
अगर कोटक महिंद्रा बैंक के फायदे कि बात की जाये तो और सारे बैंको के मुकाबले कोटक 811 से बहुत अधिक फायदा है आइये फायदे जानते है


  1. कोटक महिंद्रा बैंक अपने सेविंग अकाउंट होल्डर को पर 5% से 6% परसेंट का व्याज (Interest) देती है। 
  2. कोटक 811 Current Account में बचे पैसे को Fixed Debit में आटोमेटिक कन्वर्ट करना और अच्छा Return अपने Customer को देना ये बहुत ही अच्छा मुनाफा है जो कोई भी ले सकता है ऐसा कोई किसी बैंक में सुविधा है 
  3. जीरो बैलेंस पर अपना अकाउंट ओपन कर सकते है। 
  4. अपने फ़ोन से अकाउंट का पूरा कण्ट्रोल बैंक जाने कि जरूरत नहीं। 
  5. कोटक 811 से आपको Virtual Debit Card मिल जाता है तथा बहुत आसानी से शॉपिंग कर सकते है। 
  6. नेटबैंकिंग की सुबिधा मिल जाती है। 
  7. UPI और मोबाइल बैंकिंग की सुविधा मिल जाती है। 
  8. फिजिकल डेबिट कार्ड यानि एटीएम कार्ड भी ले सकते है।
  9. पर्सनल लोन के लिए ऑनलाइन अप्लाई कर सकते है। 
  10. ऑनलाइन क्रेडिट भी अप्लाई कर सकते है। 
नोट:-मै उम्मीद करता हु कि आप कोटक 811 अपना अकाउंट आसानी से ओपन कर पायंगे और आपको इस Kotak 811 में जीरो बैलेंस से अकाउंट कैसे खोले के पोस्ट से आपको बहुत हेल्प मिली होगी तथा कोटक बैंक से सम्बंधित सारे प्रॉब्लम दूर हो गये होंगे और कोटक 811 के बारे बेहतर जानकारी मिली होगी ऐसे पोस्ट को पढ़ने के लिए हमारे फेसबुक और इंस्टाग्राम के पेज को लाइक और फॉलो करे और सबसे पहले जानकारी पाये और आर्टिकल को शेयर करे | (धन्यवाद्)